Home Latest News आज का राशिफल सूर्य के वृषभ राशि में गोचर से बना त्रिग्रही योग, इन तीन...

सूर्य के वृषभ राशि में गोचर से बना त्रिग्रही योग, इन तीन राशिवालों का खुलेगा भाग्य

पंडित पी. एस. त्रिपाठी जी… आज का पंचांग

दिनांक 15.05.2021 शुभ संवत 2078 शक 1943 सूर्य उत्तरायन का … वैशाख मास शुक्ल पक्ष चतुर्थी तिथि … प्रातः को 08 बजकर 00 मिनट से .. दिन … शनिवार … मृगशिरा नक्षत्र …दिन को 08 बजकर 39 मिनट तक … आज चंद्रमा … मिथुन राशि में … आज का राहुकाल दिन 08 बजकर 43 मिनट से 10 बजकर 22 मिनट तक होगा…

सूर्य की वृषभ संक्रांति Sun Transit Effects

आज सूर्य की वृषभ संक्राति है अर्थात् आज सूर्य अपनी उच्च राशि मेष से वृषभ राशि में गोचर करेंगे जो कि एक माह तक इसी राशि में भ्रमणरत रहेंगे। सूर्य की वृषभ संक्रांति 14 की मध्यरात्रि 11 बजकर 25 मिनट पर हो रहा है और सूर्य के इस राशि परिवर्तन के साथ ही सूर्य बुध एवं शुक्र के साथ राहु दोष में आ जाने के कारण ये संक्रांति सूर्य राहु दोष के साथ शुरू हो रहा है जो कि स्वास्थ्य एवं अनुशासन हेतु प्रतिकूल प्रभाव दे सकता है। देश दुनिया के साथ ही मन और शरीर पर भी परिवर्तन दिखाई देगा। धार्मिक मान्यता के अनुसार वृषभ संक्रांति को मकर संक्रांति के समान माना गया है। इस दिन पूजा-पाठ, जप, तप और दान का विशेष महत्व बताया गया है। संक्रांति के दिन किसी पवित्र नदी अथवा जलकुंड में नहाने से तीर्थस्थलों के समान पुण्यफल प्राप्त होता है। आइए जानते हैं वृषभ संक्रांति पूजा विधि और मंत्र वृषभ संक्रांति के दिन ब्रह्म बेला में उठें और घर की साफ-सफाई करें। इसके पश्चात स्नान ध्यान करें। कोरोना संक्रमण के चलते नदियों या सरोवरों में स्नान करना संभव नहीं है। ऐसी स्थिति में घर पर ही गंगाजल मिश्रित पानी से स्नान करें। इसके बाद सर्वप्रथम भगवान सूर्य देव को जल का अर्घ्य दें। अर्घ्य देते समय निम्न मंत्र का जरूर उच्चारण करें।

यहां दबाकर धर्म कथाएं का मोबाइल एप डाउनलोड करें

एहि सूर्य! सहस्त्रांशो! तेजो राशे! जगत्पते!
अनुकम्प्यं मां भक्त्या गृहाणार्घ्य दिवाकर!

अपने पूर्वजों को शांत करने के लिए पितृ तर्पण करें। आप वृषभ संक्रांति पर व्रत का पालन भी कर सकते हैं। भगवान शिव और भगवान विष्णु की पूजा करें। वृषभ संक्रांति रीति-रिवाजों के अनुसार प्रसाद के रूप में तैयार पायसम या खीर चढ़ाएं। भगवान शिव और भगवान विष्णु को प्रसाद चढ़ाएं। अपने परिवार के अलग-अलग व्यक्तियों को प्रसाद परोसें। घरवालों को प्रसाद खिलाएं। किसी पवित्र ब्राह्मण परिवार को पवित्र गाय दान करें।

क्या असर करेगा इस तरह का परिवर्तन Sun Transit Effects

मेष राशि-इस समय सूर्य आपकी राशि से दूसरे घर में इसका गोचर करेगा। ऐसे में आपको धन लाभ की संभावना के बीच पारिवारिक जीवन में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। वरिष्ठों के साथ आपकी कुछ असहमति हो सकती हैं। विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है। स्वास्थ्य के मामले में छोटी-मोटी स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर सकते हैं, उपाय – सूर्य मंत्र का जाप करें। तांबे के बर्तन में पानी भरकर रखें और उसी जल को पिएं। (Sun Transit Effects)

mesh rashi
वृषभ राशि-इस समय सूर्य का गोचर आपकी राशि में ही होगा। इस समय आप अपने जीवन की कठिनतम समस्याओं को भी बहुत आसानी से हल कर पाएंगे, बस स्वयं पर अहंकार से को दूर रखें। वहीं नौकरी पेशा जातकों को इस समय कार्यक्षेत्र में अपने भविष्य को बेहतर बनाने के लिए काफी कोशिशें करनी होंगी, जबकि भविष्य को लेकर आप काफी आशांवित हो सकते हैं। जबकि कारोबारी इस गोचर के दौरान लाभ कमा सकते हैं। स्वास्थ्य को लेकर इस समय खास सतर्क रहना होगा।
उपाय-आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ करें। गाय को गुड के साथ रोटी खिलायें।
vrishabha rashi
मिथुन राशि- इस दौरान सूर्य का गोचर आपकी राशि के द्वादश भाव में रहेगा। इस दौरान आपको कोई बड़ा वित्तीय लाभ होता नहीं दिख रहा है, वहीं इस समय आपको अपने खर्चों पर भी खास नजर रखनी होगी। स्वास्थ्य के मामले में आपको इस दौरान अपनी सेहत का खास ख्याल रखना होगा। उपाय-हर रोज भगवान विष्णु की पूजा करें। बच्चों को नारियल की बनी मिठाई खिलायें।

कर्क राशि-इस दौरान सूर्य का गोचर आपकी राशि के एकादश भाव में रहेगा, जो गोचर आपके लिए लाभकारी रहेगा। आर्थिक रूप से यह अवधि आपके लिए चमत्कारी सिद्ध होगी। इस समय लाभ की संभावना के बीच आपकी वह इच्छाएं पूरी होंगी जिनके बारे में लंबे समय से सोच रहे थे। आपको सरकारी क्षेत्रों में लाभ के अलावा इस समय अपने वरिष्ठ अधिकारियों से भी समर्थन मिलेगा। स्वास्थ्य की दृष्टि से ये समय अच्छा है। यह अवधि छात्रों के लिए भी बहुत अनुकूल नहीं है। उपाय-भगवान सूर्य को जल चढ़ाने के साथ ही उनकी पूजा करें। शहद का दान करें।

सिंह राशि-इस समय सूर्य का गोचर आपकी राशि के दशम भाव पर रहेगा। जो आपकी तरक्की की संभावना बनाएगा। वहीं आपमें अत्यधिक आत्मविश्वास को देखते हुए आपके प्रतिद्वंदी आपसे दूर ही रहेंगे। इस समय आप समाज में सम्मान अर्जित करने के साथ ही व्यक्तिगत जीवन में भी खुशहाल रहेंगे। स्थ्य की दृष्टि से भी ये समय आपके लिए अनुकूल रहेगा। वरिष्ठों से संबंध बेहतर के बीच इस समय आप किसी सरकारी संस्था से अच्छी डील कर लाभ कमा सकते हैं। उपाय-सूर्य देव की पूजा के अलावा गाय की सेवा करें।
singh rashi
कन्या राशि-इस समय सूर्य का गोचर आपकी राशि के नवम भाव में रहेगा। इस अवधि के दौरान आपको व्यापार में तो कुछ लाभ हो सकता है, लेकिन कोई बड़ा वित्तीय लाभ मिलने की संभावना कम ही है। वहीं नौकरियों पेशा से जुड़े लोगों को अपनी स्थिति को लेकर ही संतुष्ट रहना होगा। आपके हल्के स्वास्थ्य से जुड़े मुद्दे हो सकते हैं, लेकिन आपको पिता का खास ध्यान रखना होगा। इस दौरान आपको अपने प्रियजनों से समर्थन मिलेगा। उपाय-सूर्य गायत्री मंत्र का एक माला जाप करें। गाय को भिगा गेहूं खिलायें।
kanya rashi
तुला राशि -इस समय सूर्य का गोचर आपकी राशि के अष्टम भाव में रहेगा। इस समय आपको गुप्त शत्रु परेशान कर सकते हैं। इसके अलावा आपको इस दौरान कुछ शारीरिक समस्याएं भी हो सकती हैं। इस समय आप कुछ मौकों को चूक सकते हैं, जिसके कारण आपके आर्थिक लाभ में कमी आ सकती है। जबकि साझेदारी या शेयर, विरासत और पैतृक संपत्ति जैसे मामलों में आपको फायदा हो सकता है। इस समय आपको वाणी पर संयम रखना होगा वरना आपसी संबंधों में खटास आ सकती है, वैवाहिक मामलों में भी ये समय उचित नहीं कहा जा सकता। उपाय- सूर्यदेव को सुबह अघ्र्य दें। अर्क के पौधे का दान करें। (Sun Transit Effects)
tula rashi
वृश्चिक राशि-इस दौरान सूर्य का गोचर आपकी राशि से सातवें भाव में रहेगा। इस दौरान व्यवसाय में आपको जबरदस्त लाभ होने की संभावना है। लेकिन, कार्यक्षेत्र में उच्च अधिकारियों से आपकी किसी काम को लेकर असहमति हो सकती है। व्यापार और साझेदारी में लाभ मिलने की संभावना के बीच इस समय आप आर्थिक रूप से संतुष्ट महसूस करेंगे और आपके खर्चों में भी स्थिरता आएगी। वैवाहिक जीवन शांति बनी रहेगी। स्वास्थ्य के मामले में थोड़ी कमजोरी के चलते चिड़चिड़ापन भी महसूस कर सकते हैं। उपाय-रोज पानी में चंदन पाउडर डालकर स्नान करें। सूर्य मंत्र का जाप करें तथा बच्चो को खेल सामग्री गिफट करें।
vrishchik rashi
धनु राशि-इस समय सूर्य का गोचर आपकी राशि से षष्ठम भाव में रहेगा। इसके चलते जहां आपके शत्रु जहां आपके सामने आने की तक हिम्मत नहीं करेंगे, वहीं इस दौरान आप स्वयं को थोड़ा बीमार महसूस कर सकते हैं। कॅरियर के मामले में जहां नौकरी करने वालों को अपनी स्थिति सुधारने के लिए अपनी उत्पादकता बढ़ानी होगी। वहीं व्यवसायी जातकों को भी मुनाफा कमाने के लिए अधिक प्रयास करना पड़ सकता है। भाग्य इस समय आपका ज्यादा साथ देता नहीं दिख रहा है, जिसके चलते कोई बड़ा वित्तीय लाभ होता नहीं दिख रहा है। इस समय पेट से संबंधित तकलीफों के बीच दांपत्य जीवन में भी परेशानी आ सकती है। लेकिन प्रतियोगी परीक्षा में हिस्सा लेने वाले छात्रों को इस दौरान सफलता मिलने की पूरी संभावना है। उपाय-सूर्य मंत्र का जाप करें। गेहू और गुड मिलाकर गाय कों खिलायें।
dhanu rashi
मकर राशि-इस दौरान सूर्य का गोचर आपकी राशि से पंचम भाव में रहेगा। इस समय शिक्षा में अच्छे परिणाम के लिए अधिक मेहनत करनी होगी। व्यवसाय में इस समय धैर्य व आत्म नियंत्रण आपको धन लाभ करवा सकता है। साथ ही इस समय भविष्य की जरूरतों को देखते हुए आपको आर्थिक रूप से अधिक सतर्क रहना होगा। पेट से जुड़ी कुछ समस्याएं इस समय आपको हो सकती हैं। इस समय आप कुछ नया सीख सकते हैं, जो भविष्य में आपके काफी काम आएगा। उपाय-हर दिन सुबह सुबह अपने पिता के चरणस्पर्श करें। चमकीले वस्त्र पितातुल्य व्यक्ति को दान करें।
makar rashi
कुंभ राशि-इस दौरान सूर्य का गोचर आपकी राशि से चतुर्थ भाव में गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान व्यवसाय और साझेदारी में व्यावसायिक रूप से लाभ संभव है। नौकरी करने वाले इस राशि के जातक इस समय सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर जीवन में ऊंचाई प्राप्त कर सकते हैं। इस समय आपका भाग्य आपका समर्थन करेगा और आपके काम की प्रशंसा होगी। संपत्ति से संबंधित मुद्दे को लेकर इस समय अंतिम निर्णय न लें। अपनी माता के साथ व्यवहार करते समय धैर्य रखें। स्वास्थ्य की दृष्टि से ये समय औसत रहेगा। उपाय-भगवान सूर्य को लाल चंदन मिश्रित जल चढ़ाएं, और उनकी पूजा करें।
kumbh rashi
मीन राशि-इस समय सूर्य का गोचर आपकी राशि से तृतीय भाव में रहेगा। इस दौरान आप असाधारण परिणाम प्राप्त करने के लिए जोखिम उठाने में भी नहीं चूकेंगे। वहीं आपका परिवार और आपके दोस्त आपके बहुत सहायक होंगे। इसके अलावा यह समय परियोजनाओं का नेतृत्व करने के लिए यह अच्छा रहेगा। इस समय आप खुद को ऊर्जावान, ताजा महसूस करेंगे साथ ही आपमे एकाग्रता और समर्पण का भाव भी बढ़ेगा। उपाय-सूर्योदय से पहले उठें और सूर्य बीज मंत्र का जाप करें। घी और शहद का दान करें। (Sun Transit Effects)
meen rashi

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments