Home धर्म कथाएं Significance Of Maa Katyayani Devi शीघ्र विवाह के लिए नवरात्रि में ऐसे...

Significance Of Maa Katyayani Devi शीघ्र विवाह के लिए नवरात्रि में ऐसे करें मां कात्यायनी की आराधना

हर अविवाहित व्यक्ति को एक अच्छे जीवन साथी की तलाश होती है लेकिन कई बार विवाह की उम्र हो जाने के बाद भी लोगों का विवाह नहीं हो पाता है. अविवाहित लोगों को शीघ्र विवाह और मनपसंद साथी से विवाह के लिए माता कात्यायनी की आराधना करनी चाहिए नवरात्रि के 6वें दिन मां कात्यायनी (Significance Of Maa Katyayani Devi) की आराधना की जाती है. यदि आपकी शादी में किसी तरह की रुकावटें आ रही हैं या शादी की उम्र हो जाने के बाद भी आपका विवाह नहीं हो पा रहा है तो नवरात्रि के दौरान ऐसे कुछ उपाय आपका शीघ्र विवाह करा सकते हैं.

Chaitra Navratri 2021 Puja vidhi, muhurat, samagri, timings, and mantra

आज हम आपको ऐसे ही कुछ सरल उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें नवरात्रि के दौरान कर आप मनचाहे जीवन साथी को पा सकते हैं और आपका शीघ्र विवाह हो सकता है. (Significance Of Maa Katyayani Devi)

यहां दबाकर धर्म कथाएं का मोबाइल एप डाउनलोड करें

मनपसंद जीवन साथी से विवाह करने के लिए नवरात्रि के दौरान अपने आसपास के किसी शिव मंदिर में जाकर भगवान शिव और पार्वती का जल और दूध से अभिषेक करें. उनका पंचोपचार यानी (चंदन, पुष्प, धूप, दीप एवं नैवेद्य) से पूजन करें, पूजा करने के बाद मौली लें और शिव पार्वती के मध्य गठबंधन करें. इतना करने के बाद वहीं पर बैठकर लाल चंदन की माला से (Significance Of Maa Katyayani Devi)

हे गौरी शंकरार्धांगी। यथा त्वं शंकर प्रिया। तथा मां कुरु कल्याणी, कान्त कान्तां सुदुर्लभाम्।। इस मंत्र का 108 बार जप करें. नवरात्रि से प्रारंभ कर इस मंत्र का जप लगातार तीन महीने तक करें मंदिर न जा पाएं तो अपने घर में इस मंत्र का जप कर सकते हैं. घर में ही मां पार्वती और शिवजी की पंचोपचार पूजा करें और पूरी श्रद्धा से भगवान शिव और मां पार्वती से मनवांछित वर प्राप्ति के लिए प्रार्थना करें. मंत्र जप करते समय शब्दों का सही उच्चारण करें.

उम्र के अनुसार उपाय

मां कात्यायनी अपने भक्तों को शादी का वरदान देती हैं मां कात्यायनी की आराधना करने वाले जातक का विवाह शीघ्र हो जाता है उसे सुयोग्य वर की प्राप्ति होती है. मां कात्यायनी विवाह में आने वाली परेशानियों को दूर कर सुखी दाम्पत्य जीवन का आशीष भक्तों को देती हैं. यदि आपका विवाह नहीं हुआ है और आप शीघ्र विवाह बंधन में बंधना चाहते हैं तो नवरात्रि के दौरान अपनी उम्र के हिसाब से कुछ उपाय कर विवाह में आने वाली रूकावटों से निजात पा सकते हैं.

20 से 25 साल की उम्र वाले जातकों को लिए

  1. शाम के समय देवी मां के सामने घी का दीपक जलाएं.
  2. देवी मां को पीले रंग की चुनरी और एक हल्दी का गांठ अर्पित करें.
  3. देवी मां से शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें व हल्दी की गांठ को पीली चुनरी में बांध कर रख लें.

26 से 30 साल की उम्र वाले जातकों के लिए

  1. देवी मां के सामने चौमुखा दीपक जलाएं
  2. देवी मां को पीतल या सोने का एक छल्ला अर्पित करें
  3. कात्यायनी देवी के मंत्र का जाप 108 बार करें, मंत्र जप के बाद छल्ले को सीधे हाथ की तर्जनी उंगली में धारण कर लें.

जिनकी उम्र 31 से 35 साल हो

  1. हवन सामग्री में पीली सरसों मिला लें, आम की लकड़ियां जला हवन सामग्री से 108 बार मां कात्यायनी के नाम की आहुति दें. आपका विवाह शीघ्र हो जाएगा.

जिनकी उम्र 35 साल से ज्यादा हो

1.पीले रंग के वस्त्र धारण करें

  1. देवी मां के समक्ष चौमुखा दीपक जलाएं
  2. अपनी उम्र के बराबर पीले रंग के फूल देवी मां को चढ़ाएं, और मंत्र का जप करें.

 

नवरात्रि में पीले रंग के वस्त्र धारण कर मां की उपासना करने से वैवाहिक जीवन की समस्याएं खत्म हो जाती हैं. मां कात्यायनी की आराधना करने वाले जातक को मनवांछित जीवन साथी की प्राप्ति होती है. जो अविवाहित व्यक्ति नवरात्रि के दिनों में माता कात्यायनी की सच्चे मन से आराधना करता है देवी मां उसकी सभी मनोकामनाओं को पूरा करती हैं.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments