Home ज्योतिष 141 दिन उल्टी चाल चलेंगे शनि, इन राशि वालों के लिए बहुत...

141 दिन उल्टी चाल चलेंगे शनि, इन राशि वालों के लिए बहुत मुश्किल वक्त, आप भी…

नवग्रहों में न्याय का देवता व कर्म का कारक माने जाने वाले शनि ग्रह 23 मई  को दोपहर 2.53 बजे अपनी ही मकर राशि में वक्री हो रहे हैं और 141 दिन वक्री अवस्था में रहने के बाद 11 अक्टूबर को प्रात: 7.44 बजे वह पुन: मार्गी होंगे। ज्योतिष शोधार्थी व एस्ट्रोलॉजी एक विज्ञान शोध पुस्तक के लेखक गुरमीत बेदी ने बताया कि शनि के अपनी ही राशि में वक्री होने से वैसे तो सभी राशियां प्रभावित होंगी लेकिन जिन राशियों पर शनि की साढ़ेसाती और ढैया चल रही है, उन पर विपरीत प्रभाव पड़ सकता है। (saturn retrograde 2021)  इन राशियों को 141 दिन तक सतर्क रहना होगा। इसके अलावा शनि के उल्टी चाल चलने से देश की अर्थव्यवस्था व काम धंधों पर भी इसका असर पड़ेगा। कई तरह के बदलाव भी देखने को मिलेंगे।

यहां दबाकर धर्म कथाएं का मोबाइल एप डाउनलोड करें

शनिदेव की उल्टी चाल (saturn retrograde 2021) 23 मई से शुरू होगी। इसे ज्योतिष शास्त्र में विशेष माना जाता है। हमेशा ही शनि को क्रूर ग्रह के तौर पर माना जाता है। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। जातकों को उनके कर्मों के अनुसार ही शनिदेव फल प्रदान करते हैं। कहा जाता है कि शनि सभी ग्रहों में सबसे मंद गति से चलने वाले ग्रह हैं। किसी एक राशि में शनि ढाई वर्षों तक रहते हैं। वे (saturn retrograde 2021) वक्री से मार्गी और मार्गी से वक्री भी होते हैं। वर्तमान में शनि ग्रह मकर राशि में विराजमान हैं। वहीं, 23 मई से शनि ग्रह मकर राशि में ही उल्टी चाल से चलने लगेंगे। ऐसा होने से कुछ राशियों पर प्रभाव पड़ेगा जो शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या से प्रभावित हैं।

धनु राशि: saturn retrograde 2021

धनु राशि पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है। यह अंतिम चरण में है। 23 मई से शनि के वक्री होने से धनु राशि के जातकों को प्रतिकूल प्रभाव मिलने लगेगा। (saturn retrograde 2021) नुकसान होने के संकेत हैं। 29 अप्रैल 20222 को शनिदेव मकर से कुंभ राशि में आ जाएंगे। तब धनु राशि के जातकों से शनि की साढ़ेसाती खत्म हो जाएगी। ऐसा होने से इनकी परेशानियां भी खत्म हो जाएंगी। 12 जुलाई 2021 से 17 जनवरी 2023 तक वक्री चाल से चलते हुए वे मकर राशि में भी प्रवेश करेंगे। ऐसा होने से धनु राशि पर एक बार फिर से शनि की साढ़ेसाती चढ़ जाएगी। हालांकि, यह प्रभाव पहले जैसा नहीं रहेगा। 17 जनवरी 2023 के बाद से धनु राशि के जातकों से शनि की साढ़ेसाती पूरी तरह से समाप्त हो जाएगी।

dhanu rashi

मकर राशि: saturn retrograde 2021

वर्तमान में शनि ग्रह इसी राशि में मौजूद हैं। 23 मई से शनि उल्टी चाल चलेंगे और नौकरी और सेहत में परेशानियां बढ़ जाएंगी। मकर राशि से 2025 में शनि की साढ़ेसाती खत्म होगी। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जिस राशि में शनि की ढैय्या चलती है उस राशि से एक राशि पहले और एक राशि बाद साढ़ेसाती का प्रभाव रहता है। ऐसे में तीन राशि पर शनि की साढ़ेसाती ढाई-ढाई साल का प्रभाव रहता है। शनि जब मीन राशि में गोचर करेंगे तब मकर राशि के जातकों को शनि की साढ़े साती के प्रभाव से मुक्ति मिलेगी।

makar rashi

कुंभ राशि:saturn retrograde 2021

ज्योतिष गणना के अनुसार कुंभ राशि के जातकों पर शनि की साढ़ेसाती का पहला चरण चल रहा है। इस राशि के स्वामी शनि हैं। अगर शनि वक्री होते हैं तो इस राशि के जातकों के कार्य में कुछ गिरावट देखने को मिल सकती है। अगर कुंडली में वक्री शनि शुभ स्थिति में हैं तो आपको इस समय अनुकूल फल की प्राप्ति हो सकती है। लेकिन अगर यह स्थिति अशुभ है तो आपको कई तरह की बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है।

aaj ka rashifal
आज का राशिफल

Read More : फेरबदल वाला रहेगा मई का महीना, 3 ग्रहों में होगा बदलाव, आप पर कैसा रहेगा असर जानें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments