सास-बहू की कुंडली मिलान कब करें…

इन दिनों गूगल पर एक अलग ही बात लोग खोजने में लगे हुए हैं। यह है सास-बहू की कुंडली मिलान की सर्चिंग। सदियों से हमारे देश ही नहीं विदेशों में भी सास-बहू के बीच कुछ खटपट होती रही हैं। लेकिन ऐसा कभी सुनने में नहीं आया हो कि कोई सास बहू ने अपनी कुंडली मिलान करवाई हो। लेकिन इस नए जमाने में यह बातें देखने को मिल रही हैं। सास बहू की कुंडली देखने में सिर्फ यह देखा जा सकता है कि कोई विवाद होगा या नहीं। अगर विवाद या मतभेद की स्थिति बनती हैं, तो उसका उपाय हम ज्योतिष से जान सकते हैं। वहीं रिश्तेदारी करते समय इस तरह की कोई कुंडली आज तक किसी भी पंडित में हमारी जानकारी में नहीं बनाई। वहीं हमने कुंडली मिलान करने वाले पंडित प्रियाशरण त्रिपाठी से बात की तो हमें पता लगा कि इस तरह की कुंडली विवाह के बाद ही कोई-कोई जातक मिलवाते हैं। यह भी तब जब उनके घर में कोई विवाद जैसी स्थितियां रोजाना निर्मित हो रहीं हो तो ऐसा होता हैैं। वहीं सास बहू कि कुंडली मिलान से यह भी विवाह पुत्र के विवाह के बाद , समस्या हल की जा सकती है। हालांकि विवाह के समय केवल पुत्र की ही कुंडली मिलाई जानी चाहिए, विवाह योग्य लडक़े की माता और होने वाली बहू की कुंडली मिलान करना उचित नहीं होगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top
error: Content is protected !!