Home ज्योतिष जरूर पढ़ें राम रक्षा स्त्रोत से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

जरूर पढ़ें राम रक्षा स्त्रोत से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

भगवान राम के कई नाम हैं भगवान के नाम पर कई ग्रंथ लिखे गए हैं बुध कौशिक ऋषि ने भगवान राम के ऊपर राम रक्षा स्त्रोत (Ram Raksha Stotra) की रचना है. जिसमें भगवान राम का गुणगान किया गया है. वैसे तो भगवान राम केवल राम नाम लेने से ही प्रसन्न हो जाते हैं लेकिन राम नाम का गुणगान भक्त को भगवान के और नजदीक लाता है और भक्त और भगवान के बीच के बंधन को मजबूत करत है. (Ram Raksha Stotra) नवरात्रि के दिनों में राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करना बेहद शुभफलदायी होता है.

Chaitra Navratri 2021 Puja vidhi, muhurat, samagri, timings, and mantra

आज हम आपको राम रक्षा स्त्रोत से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी देंगे Ram Raksha Stotra

1. जो व्यक्ति भगवान राम के राम रक्षा स्त्रोत का नियमित पठन करता है उसपर कभी कोई विपदा नहीं आती, उस व्यक्ति की रक्षा स्वयं भगवान राम करते हैं. राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करने वाला भगवान राम का शरगाणत बन जाता है.

यहां दबाकर धर्म कथाएं का मोबाइल एप डाउनलोड करें

  1. हनुमान जी के आराध्य भगवान राम हैं इसलिए राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करने से व्यक्ति को हनुमान जी की कृपा स्वत: प्राप्त हो जोती है, और हनुमान जी प्रसन्न होकर राम भक्तों की सहायता करते हैं.

 

  1. प्रचलित मान्यता के अनुसार यह भी कहा गया है कि राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करते समय यदि एक कटोरी में सरसों के दाने रख कर राम रक्षा स्त्रोत का 11 बार पाठ किया जाए व कटोरी में रखे दानों को उंगली से घुमाया जाए तो वो दाने सिद्ध हो जाते हैं. सरसों के दानों को संभाल के घर में किसी सुरक्षित स्थान पर रख दें. अकेले सोने के दौरान, यात्रा के दौरान इन दानों को साथ रखने से ये दाने व्यक्ति की रक्षा करते हैं.

 

  1. राम रक्षा स्त्रोत और पानी को लेकर भी एक मान्यता प्रचलित है जिसके मुताबिक राम रक्षा स्त्रोत का 11 बार पाठ करते समय एक तांबे के पात्र में पानी को हाथ से पकड़े रहें व पाठ करते समय पानी को देखते रहने से ये सिद्ध हो जाता है. सिद्ध जल को औषधि की तरह प्रयोग किया जाता है. किसी रोगी को पिलाने पर ये जल औषधि की तरह कार्य करता है.

 

  1. भगवान राम अपने शरणागत की हर विपदा से रक्षा करते हैं राम रक्षा स्त्रोत के नियमित पाठ से व्यक्ति हर मुश्किल से बच जाता है.
  2. राम रक्षा स्त्रोत का नियमित पाठ करने वाला व्यक्ति सुख-समृद्धि को प्राप्त करता है संतान, शांति और उसे लंबी उम्र की प्राप्ति होती है.
  3. जो लोग मंगल दोष की पीड़ा से परेशान हैं यदि वो नियमित राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करें तो उन्हें मंगल ग्रह के कुप्रभाव से मुक्ति मिलती है.
  4. राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करने वाले व्यक्ति के चारों और एक रक्षा कवच निर्मित हो जाता है और उसके मन में सकारात्मक भावों का संचार होता है. नकारात्मक चीजें उससे दूर रहती हैं

daily horoscope 9 march 2021 panchang rashifal, aaj ka rashifal, mangalwar ka rashifal in hindi

  1. राम रक्षा स्त्रोत के पाठ से व्यक्ति निर्भीक बनता है उसके मन से किसी भी प्रकार के डर निकल जाते हैं.
  2. भगवान राम के आराध्य शिवजी हैं और शिवजी के आराध्य हैं भगवान राम, जो व्यक्ति भगवान राम को प्रसन्न करता है वो हनुमान जी और शिवजी का कृपा का पात्र भी बन जाता है. राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करने से शिवजी भी प्रसन्न होते हैं और व्यक्ति को शिवजी की कृपा प्राप्त होती है.   कहते हैं भगवान शिव के ही कहने पर ऋषि बुध कौशिक ने राम रक्षा स्त्रोत की रचना की थी. भगवान शिव ने स्वप्न में ऋषि बुध कौशिक को रात में स्वप्न में राम रक्षा स्त्रोत सुनाया था जिसे उन्होने सुबह भोज पत्र में लिखा था. राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करने से व्यक्ति के जीवन में आने वाली विपत्तियों से उसकी रक्षा होती है. लेकिन राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करते समय व्यक्ति को सावधानी रखनी चाहिए विधि विधान से ही इसका पाठ आरंभ करना चाहिए.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments