Home ज्योतिष आसान उपायों से घर में पाएं सकारात्मक ऊर्जा

आसान उपायों से घर में पाएं सकारात्मक ऊर्जा

हमारे घर में सकारात्मक ऊर्जा (positive energy ) का होना बेहद आवश्यक है जब घर में सकारात्मक ऊर्जा नहीं होती तो व्यक्ति के जीवन में शांति का आभाव हो जाता है वो हर तरफ परेशानियों से घिर जाता है. जीवन में स्वस्थ रहने, निरोगी रहने के लिए सकारात्मक ऊर्जा का हमारे आस- पास होना बेहद आवश्यक है आज हम आपको कुछ सरल वास्तु शास्त्र के उपाय बताने जा रहे हैं जिन्हें कर के आप अपने घर से नकारात्मक ऊर्जा को बाहर कर घर का माहौल सकारात्मक बना सकते हैं.

यहां दबाकर धर्म कथाएं का मोबाइल एप डाउनलोड करें

कर्पूर (positive energy )

पूजा पाठ में कर्पूर जलाने की परंपरा सदियों से जारी है, हमारे शास्त्रों में कहा गया है कि देवी-देवताओं के मध्य कर्पूर जलाने से व्यक्ति को अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है. नियमित रूप से जो लोग कर्पूर जलाते हैं उन्हें पितृदोष, देवदोषों तथा किसी ग्रह से मिलने वाले अशुभ परिणामों का असर उन पर नहीं होता. घर में कर्पूर जलाने से वास्तु दोष भी दूर होते हैं, धार्मिक दृष्टि से कर्पूर जलाना शुभ तो होता ही है इसके पीछे कई वैज्ञानिक कारण भी हैं कर्पूर जलाने से निकलने वाली इसकी गंध से घर में रहने वाले सूक्ष्म जीवाणु-विषाणु नष्ट हो जाते हैं घर का वातावरण शुद्ध होता है और बिमारियों के फैलने का खतरा भी कम हो जाता है.

गुड़ और घी (positive energy )

गुड़ और घी सेहत के लिए जितने फायदेमंद हैं ये अन्य रूप से भी हमारे लिए उपयोगी हैं. गुड़ और घी का उपयोग पूजा-पाठ में भी किया जाता है. घर में सकारात्मक ऊर्जा के संचार के लिए गोबर से बने उपले पर गुड़ और घी से धूप करने से वातावरण सुगंधित हो जाता है वहीं इसका हवन करने से ऑक्सिजन लेवल भी बढ़ जाता है. हवन करते समय आप इसमें हवन के बाकी सामान भी मिला सकते हैं साथ ही इसमें सुगंध के लिए गुग्गल को भी मिला कर आहुति दे सकते हैं. कुछ नहीं मिलाने पर भी गुड़ और शुद्ध घी की महक से आपका घर तरोजाता हो उठेगा. गुड़ और घी के धुएं से निकलने वाली सुगंध आपको मन मस्तिष्क को तनाव से मुक्त कर देगी.

षोडशांग धूप (positive energy )

षोडशांग धूप में 16 प्रकार की वस्तुओं को मिलाया जाता है इसमें अगर, तगर, कुष्ठ, शैलज, शर्करा, नागरमाथा, चंदन, इलाइची, तज, नखनखी, मुशीर, जटामांसी, कर्पूर, ताली, सदलन और गुग्गुल इन 16 वस्तुओं को मिलाकर षोडशांग धूप बनती है. घर में इस धूप की धूनी देने से आकस्मिक रोग, शोक और दुर्घटनाओं का खतरा टल जाता है.

दीवारों का रंग (positive energy )

रंगों का हमारे जीवन पर बहुत असर पड़ता है. हमारे घर की दीवारों पर जैसे रंग रहेंगे उनका वैसा ही असर हमारे ऊपर पड़ता है घर में सकारात्मक ऊर्जा के संचार के लिए जरूरी है कि हम घर में हल्के रंगों का प्रयोग करें ऐसे रंग जो हमारी आंखों को सुकून दें. घर की दीवारों में हल्का नीला, सफेद, नारंग, पीला, हलका स्लेटी, क्रीम, पिंकिश, गुलाबी रंग पोतना चाहिए. घर में रंगोली आ मांडना बनाने से भी घर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है.

नकारात्मक वस्तुएं (positive energy )

हमारे घर में कई ऐसी वस्तुएं होती हैं जो नकारात्मक ऊर्जा का संचार करती हैं और हमारे जीवन से सुख-शांति को हटा देती हैं. इसलिए जो चीजें आपको काम की न हों कबाड़ हों उन्हें तुरंत अपने घर से हटा दें. घर में अटाला, प्लास्टिक, हानिकारक वस्तुएं, फटे-पुराने कपड़े, अत्यधिक लोहा, जर्मन, एल्युमिनियम की वस्तुएं नकारात्मक ऊर्जा का संचार करती हैं ऐसी वस्तुओं को घर में नहीं रखना चाहिए. इनके अलावा धूल, मिट्टी, मकड़ी के जाले, पुराने कॉस्मेटिक्स, खाली डिब्बे, डिब्बी,कनस्तर, पोंछे, टूटे कांच, क्रॉकरी, पालतु पशु, खराब बिस्तर तकिया,तीखे कलर की चीजें, टूटे और आवाज करने वाले पंखें आदि को भी सकारात्मक ऊर्जा के संचार के लिए नकारात्मक वस्तुओं का अपने घऱ से बाहर कर देना चाहिए.

Read more: घर में रखते है गंगाजल, तो भूल कर भी न करे ये गलतियां !!!

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments