Home ज्योतिष हनुमान चालीसा से जुड़ी 10 खास बातें जो रखेंगी आपको स्वस्थ

हनुमान चालीसा से जुड़ी 10 खास बातें जो रखेंगी आपको स्वस्थ

हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa)हर हनुमान भक्त के लिए बेहद खास होती है, इसे पढ़ने से व्यक्ति को हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है, लेकिन हनुमान चालीसा में सेहत का खजाना भी छिपा है आज हम आपको हनुमान चालीसा से जुड़े 10 ऐसे रहस्यों के बारे में बताएंगे जो आपके स्वास्थ्य से जुड़े हैं.

यहां दबाकर धर्म कथाएं का मोबाइल एप डाउनलोड करें

  • हनुमान चालीसा पढ़ने से व्यक्ति को आध्यात्मिक बल का प्राप्ति होती है. व्यक्ति को आध्यात्मिक बल से आत्मिक बल की प्राप्ति होती है और आत्मिक बल व्यक्ति को शारीरिक बल प्रदान करता है. जब व्यक्ति का शरीर मजबूत होता है तो वो किसी भी तरह के रोगों से लड़ सकता हैं. वर्तमान दौर में व्यक्ति को स्वस्थ शरीर की बहुत जरूरत है ताकि वो रोग बीमारियों से बचा रह सके. जो लोग प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं उन्हें आध्यात्मिक शक्ति प्राप्त होती है, हनुमान जी बल और बुद्धि के दाता हैं. हनुमान चालीसा का नित्य पाठ व्यक्ति की स्मरण शक्ति को बढ़ाता है.
  • हनुमान चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति का मनोबल बढ़ता है, प्रतिदिन पाठ से व्यक्ति में पवित्रता का भाव जाग्रत होता है. व्यक्ति को सभी संकटों से मुक्ति मिलती है, हनुमान चालीसा में लिखा है. अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता, असवर दिन जानकी माता, अर्थात भगवान की नित्य आराधना से व्यक्ति को अष्ट सिद्धि की प्राप्ति होती है.
  • भूत पिशाच निकट नहीं आवे महावीर जब नाम सुनावे। या सब सुख लहै तुम्हारी सरना, तुम रक्षक काहू को डरना। हनुमान चालीसा की ये पक्तियां पढ़ने वाले को हर तरह के भय से बचाती हैं. व्यक्ति को न तो परिस्थियों से डर लगता है न ही बुरी बलाओं से, जो लोग रोज हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं उन्हें तनाव से मुक्ति भी मिलती है.
  • हनुमान जी की आराधना से व्यक्ति के रोग, दोष मिट जाते हैं हनुमान चालीसा में लिखा है नासै रोग हरे सब पीरा, जपत निरन्तर हनुमत बीरा। या बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार। अर्थात किसी भी प्रकार का रोग हो वो हनुमान जी की नित्य आराधना से समाप्त हो जाता है. कोई भी क्लेश हो वो हनुमान जी हर लेते हैं, बस पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ भगवान का सुमिरन करें. जो भक्ति भावना से भगवान का ध्यान करता है उसके सभी कष्ट संकट मोचन हर लेते हैं.
  • हनुमान जी को संकट मोचन कहा जाता है हनुमान चालीसा में लिखा है संकट कटै मिटै सब पीरा, जो सुमिरै हनुमत बलबीरा। या संकट तें हनुमान छुड़ावै, मन क्रम बचन ध्यान जो लावै। जो व्यक्ति नित्य भगवान का ध्यान करता है उसके संकट और पीड़ाओं को भगवान हर लेते हैं.

 

  • जो व्यक्ति प्रतिदिन 100 बार हनुमान चालीसा का पाठ करता है उसे सभी बंधनों से मुक्ति मिल जाती है बंधन रोग का हो या किसी बुरी बला का, उस व्यक्ति को फिर किसी भी तरह का बंधन बांध कर नहीं रख सकता है. हनुमान चालीसा में ही लिखा है- जो सत बार पाठ कर कोई, छूटहि बन्दि महा सुख होई। सत अर्थात सौ।
  •  हनुमान जी के ध्यान से व्यक्ति को नकारात्मक ऊर्जाओं से मुक्ति मिलती है, जिस घर में नित्य हनुमान जी की आराधना की जाती है, चालीसा का पाठ किया जाता है वहां किसी भी तरह की नकारात्मक ऊर्जा नहीं ठहर पाती.
  •  हनुमान जी रोग, शोक से तो भक्तों को बचाते ही हैं लेकिन उनके पाठ से व्यक्ति के ग्रहों के बुरे परिणामों से भी छुटकारा मिलता है, व्यक्ति शनि ग्रह से पीड़ित हो या राहु ग्रह से, यदि वो हनुमान चालीसा का पाठ करता है तो उसे ग्रहों के बुरे परिणामों से भी मुक्ति मिलती है.
  •  जिन घरों में किसी बात पर क्लेश होता है वहां घर में रहने वाले लोगों को हनुमान जी का स्मरण कर उनकी चालीसा का नियमित पाठ करना चाहिए व्यक्ति को क्लेश से छुटाकारा मिलता है और घर का माहौल खुशनुमा हो जाता है.
  •  जो लोग रोज हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं हनुमान जी उनको सभी तरह की बुराईयों से बचाते हैं. कुसंगत में रहकर नशा करना, पराई स्त्री पर नजर रखना और क्रोध, मोह, लोभ, ईर्ष्या, मद, काम जैसे मानसिक विकारों से हनुमान चालीसा पढ़ने वाला व्यक्ति बच जाता है. हनुमान चालीसा के पाठ से व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक स्थिति सुधर जाती है.

Read more: वैशाख माह में पुण्य कमाने के लिए करें सरल उपाय

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments