रायपुर : मुख्यमंत्री शामिल हुए परमेश्वरी महोत्सव में : देवांगन समाज को छात्रावास के लिए एक एकड़ भूमि आवंटित करने की घोषणा

रायपुर 10 फरवरी 2019. मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज राजधानी रायपुर के गुढि़यारी मोहल्ले स्थित महेश भवन में देवांगन समाज द्वारा आयोजित मां परमेश्वरी पूजा महोत्सव में शामिल हुए। श्री बघेल ने समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि देवांगन समाज छत्तीसगढ़ का एक प्रतिष्ठित समाज है, जो कृषि कार्य के साथ-साथ व्यवसाय में भी अग्रणी है। छत्तीसगढ़ के लोगों ने देवांगन समाज की मेहनत और विश्वसनीयता को देखते हुए उन्हें महाजन की उपाधि दी है।
मुख्यमंत्री ने समाज की मांग पर रायपुर शहर के रायपुरा में छात्रावास निर्माण के लिए एक एकड़ भूमि आवंटित करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि देवांगन समाज ने जिस प्रकार कोसा कपड़े के व्यापार को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पहचान दी है, उसी प्रकार प्रतिस्पर्धा के युग में हाथकरघा कपड़े को लोकप्रिय बनाने के लिए सरकार द्वारा डिजाइनर सहित अन्य सुविधाएं समाज के मांग के अनुसार दी जाएंगी। कार्यक्रम की अध्यक्षता रायपुर राज देवांगन समाज के अध्यक्ष श्री चोवा राम देवांगन ने किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने मां परमेश्वरी की मूर्ति की पूजा-अर्चना की। कार्यक्रम में समाज के लोगों ने मुख्यमंत्री का अभिनंदन भी किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ने किसानों का कर्जा माफ करने के साथ ही प्रति क्विंटल 2500 रूपए में धान की खरीदी की व्यवस्था की है। इसी तरह आने वाले अप्रैल माह से शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू बिजली उपभोक्ताओं के चार सौ विद्युत यूनिट तक बिजली बिल की राशि आधी हो जाएगी। उन्होंने कहा कि गरीब परिवारों को 35 किलो राशन देने का प्रावधान भी बजट में किया गया है। इस अवसर पर विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा, श्री चन्द्रदेव राय और श्री विकास उपाध्याय, रायपुर नगर निगम की पूर्व महापौर श्रीमती किरणमयी नायक, देवांगन समाज के पदाधिकारी सहित सामाजिक बन्धु बड़ी संख्या में उपस्थित थे।
रायपुर 10 फरवरी 2019 मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल कल दुर्ग जिले के पाटन विकास खण्ड के ग्राम तर्रा में आयोजित चन्द्रनाहू क्षत्रिय समाज के कार्यक्रम में शामिल हुए। समाज द्वारा मुख्यमंत्री का अभिनंदन किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ के पहली सरकार में मंत्री के रूप में मैंने प्रदेश में कुछ नालों के रिचार्ज की योजना बनाई थी। पाटन क्षेत्र में जिन नालों में रिचार्ज का काम किया गया, वहां भूमिगत जल स्तर बढ़ गया। अब हम पूरे प्रदेश में नालों के रिचार्ज पर काम करेंगे। भूजल स्तर मंे बढोत्तरी के लिए नालों को रिचार्ज करना सबसे अच्छा माध्यम है। बांधों की तरह इसमें किसानों की जमीन डुबान क्षेत्र में नहीं आती। मिट्टी की नमी बनी रहती है जो फसल के लिए बहुत उपयोगी होती है। श्री बघेल ने कहा कि पशुधन को हमें शक्ति बनाना है। थोड़ी सी जमीन हम गौठान के लिए रख दें, तो बहुत बड़ी जमीन मवेशियों के चरने से बचा सकते हैं। यह छत्तीसगढ़ के लाखों किसानों के लिए संजीवनी की तरह होगा। उन्होंने कहा कि गौठानों के प्रभावी उपयोग से हम गांव में ही अपने पशुधन के माध्यम से काफी सरलता से जैविक खाद और बायो गैस प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top
error: Content is protected !!