बुधवार का राशिफल, पंचांग, व्रत त्योहार के साथ जानते हैं राशियों के हाल और ग्रहों की चाल

pandit priya sharan tripathi

(budhwar ka rashifal, budhwar ke upay or totke, wednesday horoscope in hindi, wednesday astrology for me)

आज हम बात करेंगे आज यानी बुधवार का राशिफल, पंचांग, व्रत त्योहार और राशियों के हाल और ग्रहों की चाल और साथ ही बतायेंगे –, इसके साथ ही पंडित पी. एस. त्रिपाठी आपको बताएंगे सफलता पाने के लिए क्या ग्रही उपाय करें और कैसे स्वयं कठिन समय में भी संभालें…

आज का पंचांग- aaj ka panchang in hindi 2018

दिनांक 21.03.2018

शुभ संवत 2075 शक 1940

सूर्य उत्तरायणयन का …

चैत्र शुक्ल पक्ष…. चतुर्थी तिथि… दोपहर 03 बजकर 31 मिनट तक … बुधवार… भरणी नक्षत्र.. रात्रि 07 बजकर 01 मिनट तक … आज चन्द्रमा …मेष राशि में… आज का राहुकाल दोपहर को 12 बजकर 11 मिनट से 01 बजकर 41 मिनट तक होगा …

सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/

 

माँ स्कन्दमाता की पूजा से पायें सुरक्षा –

मा दुर्गा के पंचम रूवरूप को स्कन्दमाता के नाम से मनाया जाता है। ‘आकाश’ तत्व की स्वामिनि माँ स्कन्दमाता भगवान स्कन्द ‘‘कुमार कार्तिकेय’’, जोकि प्रसिद्ध देवासुर संग्राम में देवताओं के सेनापति बने थे तथा शक्तिधर के नाम से जिनकी महिमा है, इन स्कन्द की माता के रूप में पूजी जाती हैं। देवी के विग्रह में गोद में बालरूप में स्कन्द बैठे हुए हैं; चार भुजाओं वाली देवी के दाहिनी ओर के उपर वाली भुजा से स्कन्द को पकड़े हुए हैं और नीचे वाली भुजा से कमल पुष्प थामे हुए हैं। बायी ओर वाली भुजा के उपर वाली भुजा वरमुद्रा में तथा नीचेवाली भुजा में भी कमलपुष्प ली हुई हैं। इनका वर्ण पूर्णतः शुभ्र हैं। ये कमल के आसन पर विराजमान रहती हैं इसलिए इन्हें पद्मासना देवी भी कहा जाता है। नवदुर्गाओं में बायीं व दायीं ओर चार-चार कन्यायो तथा बीच में स्कन्दमाता प्रतिष्ठित हैं जो सभी तत्वों की मूल बिन्दु हैं। एक ओर पृथ्वी, जल, अग्नि व वायु यह चार तत्व है। कुत्सिज्ञ विचारों का जो त्याग करे वही कुमार है। काम, क्रोध, लोभ-मोह आदि अहंकार का जो त्याग करे वहीं कुमार है। ऐसा भक्त जब इस स्थिति में स्थित होकर माँ को पुकारता है तब माता तत्क्षण उसे ‘कुमार’ की भांति अपनी गोदी में उठा लेती हैं।

 

माँ स्कन्दमाता की पूजा राशि अनुसार

नवरात्रि में चौथे दिन माता के स्कन्दमाता स्वरूप की पूजा की जाती है। प्रत्येक भक्त के लिए आराधना योग्य यह मंत्र सरल और स्पष्ट है।

“सिंहासनगता नित्यं पद्याञ्चितकरद्वया।

शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी॥“

 

अर्थ: हे मां! सर्वत्र विराजमान और स्कन्दमाता के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूं।

नवरात्रि में साधु-संत व तांत्रिक से लेकर देवी-देवता सभी मां की प्रसन्नता के लिए मां की आराधना एवं नाना प्रकार की सिद्धियां करते हैं व मां जगदम्बा का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। आप भी मां से आशीर्वाद लेने के लिए अपनी राशि अनुसार आराधना करें, जिसके लिए विभिन्न राशि वालों के मंत्र एवं पूजा निम्नानुसार है:-

 

 

आज के राशियों का हाल तथा ग्रहों की चाल-

मेष राशि

नई प्रारंभ की गई योजनाओं से लाभ….

खेल से संबंधित क्षेत्र में यष….

मौज-मस्ती से दिन बितेगा…

विवाद निर्मित होने की संभावना….

 

उपाय –

ॐ अमेयविक्रमाः स्कन्दमातायै नमः

माता स्कन्दमाता से ना मिटने वाली विजय प्राप्ति हेतु मेष राशि वालें को उक्त मंत्र का 11 बार जाप कर तिल के लड्डू का भोग माता को लगाना चाहिए और गरीबो में प्रसाद बाटना चाहिए।

 

वृषभ –

परिवार वालों का पूर्ण सहयोग…

विवेकपूर्ण निर्णय एवं योजनाबद्ध कार्य से लाभ….

उच्च शिक्षा के क्षेत्र में प्रयास में सफलता…

चोट-मोच से कष्ट…..

उपाय –

ॐ सुन्दरीयै स्कन्दमातायै नमः

वृषभ राशि वाले जातकों को माँ के स्कन्दमाता से सौंर्दय की कामना करनी चाहिए और उक्त मंत्र का एक माला जाप ब्रम्ह मूहुर्त में कर रसीले फलों का भोग लगाकर कुवारी कन्याओं को दान करना चाहिए।

 

मिथुन –

घर के सामान का नुकसान…

मानसिक अषांति संभव….

आकस्मिक व्यय…

उपाय –

ॐ मातङ्गी स्कन्दमातायै नमः

उक्त मंत्र का जाप सामथ्र्य अनुसार मिथुन राशि वाले जातको द्वारा करने से समस्त मनोकामना की पूर्ति होगी और इसके साथ ही मोतीचूर के लड्डू का भोग लगाकर कुवारी कन्याओं को प्रसाद बाटना चाहिए।

 

कर्क –

इलेक्ट्रानिक कार्य में लाभ…

सामाजिक कार्य से संबंधित क्षेत्र में यष की प्राप्ति…

पिता एवं राज्यपक्ष के सहयोग से सफलता…

यात्रा के योग….

विवाद से दूर रहें….

उपाय –

ॐ ब्राह्मी स्कन्दमातायै नमः

कर्क राशि वाले जातको को बुद्धि बढ़ाने एवं उन्नति प्राप्ति के लिए उक्त मंत्र विशेष कल्याणकारी होगा। इसके साथ ही नारियल से बने प्रसाद का वितरण बडे-बुजूर्गो को करना चाहिए।

 

सिंह –

किसी करीबी का सहयोग करेंगे…

पार्टनर से तालमेल से व्यवसायिक लाभ…

यात्रा तथा बड़ों से मुलाकात होगी…

उपाय –

ॐ चैन्द्री स्कन्दमातायै नमः

सिंह राशि वाले जातको के लिए स्कंदमाता से चंद्र जैसा तेज और शांति प्राप्ति के लिए उक्त मंत्र जिससे उनके जीवन में असंभव की प्राप्ति का मार्ग प्रश्स्त होगा, इसके लिए गेहू और गुड के योग से मिष्ठान बनाकर माता को भोग लगाकर बच्चों में प्रसाद बाटना चाहिए।

 

कन्या –

संपत्ति का क्रय या घरेलू सामान की खरीदी करेंगे…

पारिवारिक सुख तथा साथ प्राप्त होगा….

आध्यामिक यात्रा संभव….

रिष्तेदारों का आगमन होगा…

उपाय आजमायें-

ॐ कौमारी स्कन्दमातायै नमः

कन्या राशि वाले जिन जातको को कौमार्य एवं स्वास्थ्य प्राप्ति के लिए उक्त मंत्र का ग्यारह हजार मंत्र जाप करना तथा पंजीरी का प्रसाद वितरण करना शुभ फलदायी होगा।

 

तुला –

जनसमूह के बीच प्रसिद्धि….

सामाजिक हित के लिए यात्रा…

संतान से मानसिक संताप…

उपाय –

ॐ चामुण्डाः स्कन्दमातायै नमः

तुला राशि वाले जातको के लिए भय से मुक्ति एवं विजयी होने के लिए उक्त मंत्र का सोलह हजार जाप करना साथ ही मूंग से बने मिष्ठान का बुजूर्ग ब्राम्हण को देना फलदायी होगा।

 

वृश्चिक –

नये काम की शुरुआत करेंगे …

दिन अच्छा तथा मन भावुक होगा…

व्यवसायिक या व्यक्तिगत रिष्तों में तालमेल बनेगा…

उपाय करें –

ॐ वाराही स्कन्दमातायै नमः

वृश्चिक राशि वाले जातको को संसार के समस्त कष्टों को वाराही बनकर दूर करने हेतु स्कंदमाता से प्रार्थना के लिए उक्त मंत्र का नौ हजार जाप कर फल एवं मिष्ठान बाटना फल दायी होगा।

 

धनु –

पारिवारिक सुखों में वृद्धि संभव…

नवीन वाहन से कष्ट…

पड़ोसियों से विवाद….

उदर विकार….

उपाय –

ॐ लक्ष्मीश्चः स्कन्दमातायै नमः

धनु राशि वाले जातक को संसार के समस्त भौतिक सुख एवं ऐश्वर्य प्राप्ति हेतु उक्त मंत्र का उन्नीस हजार मंत्र जाप कर भोजन एवं वस्त्र दान करने से धनु राशि वाले जातको के स्वास्थ्य का लाभ प्राप्त होगा।

 

मकर –

कार्यक्षेत्र में मनोबल बढ़ेगा…

सहयोगी स्वभाव से नये दोस्त बनेंगे…

पारिवारिक सदस्यों का सहयोग मिलेगा….

खेल के क्षेत्र में लाभ तथा यष….

वाहन से चोट संभव…

उपाय –

ॐ विमलोत्कर्षिणी स्कन्दमातायै नमः

मकर राशि वाले जातको के लिए जीवन में समस्त प्रकार के उत्कर्ष अर्थात् मनवांछित उन्नति प्राप्त करने हेतु उक्त मंत्र का ग्यारह माला जाप कर मीठे शरबत प्यासे को पिलाना चाहिए।

 

कुंभ –

परिवार में मांगलिक काम…

लेखन के क्षेत्र में प्रषंसा….

आर्थिक कष्ट….

पारिवारिक विरोध संभव…

उपाय –

ॐ बुद्धिदाः स्कन्दमातायै नमः

कुंभ राशि वाले जातको को सद्बुद्धि प्राप्ति हेतु उक्त मंत्र का इक्कीस माला जाप कर नारियल से बने मिठाई का दान गरीबो में करना चाहिए।

 

मीन –

करीबी रिष्तेदारों से विवाद संभव…

धार्मिक कर्म या यात्रा से मानसिक शांति….

चेरी या हानि से वित्तीय कष्ट…

उपाय –

ॐ सर्ववाहनवाहनाः स्कन्दमातायै नमः

मीन राशि वाले जातको को माॅ स्कन्दमाता की पूजा के दिन उक्त मंत्र का सात माला जाप कर मीठे फल एवं मिष्ठान का प्रसाद वितरण करना चाहिए, जिससे उनके जीवन में समस्त प्राकर की पवित्रता एवं सामथ्र्य प्राप्ति होगी।

 

 

 देखें भगवान गणेश का वीडियों 

whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top
error: Content is protected !!