बालोद के जलेश्वर महादेव मंदिर में बन रहा ॐ नम: शिवाय मंत्र का अनोखा रिकार्ड

jaleshwar mahadev temple balod

बालोद. दशौदी तालाब स्थित जलेश्वर महादेव मंदिर में भक्तों का तांता लगा हुआ हैं। यहां ओम नमः शिवाय मंत्र निधि अर्पण का तीन दिवसीय महोत्सव आयोजन से क्षेत्र भक्तिमय बना हुआ है।
कोलकाता से पहुंचे नौ वैदिक पंण्डितों द्वारा विशेष पूजा अर्चना के साथ तीन करोड़ से भी अधिक ओम नमः शिवाय मंत्रों का अभिषेक किया जा रहा है। गौरतलब है कि 4 जुलाई 2012 से यहां भक्तों के द्वारा ओम नमः शिवाय मंत्र का लेखन कार्य अनवरत जारी है। और अब तक 19 करोड़ 97 लाख 90 हजार 132 मंत्र लिखा जा चुका है। इस मंत्र लेखन मे सभी वर्ग की सहभागिता है। ओम नमः शिवाय मंत्रों का यह छठवा अभिषेक आयोजन है।

आत्मीय सुख की अनुभूति

दशौदी तालाब के बीचोंबीच स्थापित शिव लिंग आज हजारों लोगों के लिए आस्था का प्रमुख केन्द्र बन गया है। दरअसल इस स्थल में एक अलग ही व्यवस्था है। यहां तालाब के चारों और कक्ष बना हुआ है। अनुभूति शब्द नहीं अनुभव की भक्तिमय उद्वेश्य को लेकर इन कमरों में भक्तगण अपनी सुविधानुसार साल भर आकर यहां रखे पन्नों में ओम नमः शिवाय मंत्र का लेखन करते है। यह सिलसिला 4 जुलाई 2012 से जारी है। जिसमे कई ऐसे भक्त है जो शुरूआती दौर से ही यहां आकर मंत्र लेखन कर रहे हैं। इसमें बच्चे महिला पुरूष सभी को मंत्र लेखन की छूट है।



लोग बेहद भक्तिभावना से आते है और मंत्र लेखन में जुट जाते है। बताया गया कि अभी तक 19 करोड़ 97 लाख 90 हजार 132 मंत्र लिखा जा चुका है। इन्ही मंत्र लेख को लेकर एक पुष्यवर्धन उत्सव मंत्र अर्पण का यह छठवा अभिषेक आयोजन है। जो कि नौ वैदिक पंण्डितों के द्वारा विशेष पूजा अर्चना के साथ किया जा है। जिसमे यहां मंत्र लेखन करने वालो के अलावा हर किसी को इस आयोजन मे सम्मिलित होने का अवसर मिलता है। लोगों को माने तो यहां आकर मंत्र लेखन करने से उन्हे सुकून तो मिलता ही है साथ आत्मीय सुख की अनुभूति होती है।

 

whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top
error: Content is protected !!