पासपोर्ट बाबा का चमत्कार, एक अर्जी दो और पाओ विदेश में जॉब

true story of passport baba jamshedpur

जमशेदपुर. देशभर के कई हिस्सों से पासपोर्ट बाबा की दरगाह पर मुराद पूरी करने की अर्जी आती है। जमशेदपुर के कालूबागान एरिया में सूफी संत हजरत मिस्कीन शाह की मजार है।

यहां विदेश में करियर, नौकरी, घर, परिवार आदि की अर्जियां देकर लोग मन्नत मांगते हैं और वे चमत्कारी रूप से पूरी होती हैं। इसीलिए बाबा का नाम भी पासपोर्ट नाम से लिया जाने लगा। जो लोग विदेश जाने की तमन्ना लिए सालों से प्रयास कर रहे हैं, वे पासपोर्ट बाबा के दरबार में पासपोर्ट की एक प्रति लेकर आते हैं, और यहां वे सच्चे मन से मन्नत मांगते हैं।



बताया जाता है कि यहां सच्चे मन से मांगी गई मुराद जरूर पूरी होती है। यहां अर्जी लगाने के बाद तत्काल मन्नत पूरी हो जाती है, इसीलिए बाबा का नाम पासपोर्ट बाबा के नाम से देश ही नहीं विदेशों में भी ख्यात हो गए है। पासपोर्ट बाबा की दरगाह पर ऐसे कई किस्से सुनने को मिल जाते हैं।

सप्ताह में दो दिन सबसे अधिक भीड़
कालूबागान एरिया में सूफी संत हजरत मिस्कीन शाह यानी पासपोर्ट बाबा की मजार पर सबसे अधिक भीड़ सप्ताह के दो दिन गुरुवार और शुक्रवार को लगती हैं।पासपोर्ट बाबा की दरगाह के पीर मोहम्मद बताते हैं कि यहां सबसे अधिक अर्जी पासपोर्ट बनवाने और विदेश जाने वाले लगाते हैं। अधिकतर लोग खाड़ी के देशों में नौकरी की मुराद रखते हैं और वे मुरादें तत्काल पूरी होती है। मोहम्मद ने बताया कि मैं करीब 20 साल से मन्नत पूरी होती देखता आया हूं।

शुक्रवार को रहती है भीड़
यहां शुक्रवार को अधिक भीड़ रहती है। बाबा की दरगाह पर सबसे ज्यादा अर्जी विदेश जाने वालों की आती है, लोग सालों से विदेश जाने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन उनका काम किसी न किसी वजह से अटक जाता है, बाबा के यहां अर्जी लगाने से मन्नत पूरी हो जाती है। इसमें भी सबसे अधिक अर्जियां सिर्फ पासपोर्ट बनवाने की ही आती है।

whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!