रथ सप्तमी की पूजा से करें सूर्य को प्रसन्न

importance of ratha saptami pujan vidhi shubh muhurat date and time for india

importance of ratha saptami pujan vidhi shubh muhurat date and time for india

प्रतिवर्ष माघ शुक्ल सप्तमी को अचला सप्तमी या रथ सप्तमी का पर्व मनाया जाता है। इसे सूर्य सप्तमी, रथ आरोग्य सप्तमी, सूर्यरथ सप्तमी आदि नामों से भी जाना जाता है। माना जाता है रथ सप्तमी के दिन ही सूर्य देव ने पुरे विश्व को अपनी ऊर्जा से रौशन किया था इसलिए इस दिन को सूर्य देव के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। इस दिन को सूर्य जयंती के नाम से भी जाना जाता है।

सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/

रथ सप्तमी बेहद ही महत्वपूर्ण दिन माना जाता है और इसे सूर्य ग्रहण पर दान पुण्य के बराबर ही महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन पुरे श्रद्धा भाव से सूर्य देव की पूजा करने और व्रत आदि रखने से सभी तरह के दुःख दूर हो जाते है।



भगवान सूर्य को अर्घ्यदान करना पूजा का एक अभिन्न हिस्सा है। अर्घ्यदान में एक कलश से खड़े होकर नमस्कार मुद्रा में भगवान सूर्य को धीरे-धीरे जल अर्पित किया जाता है। उसके बाद घी से बने दीपक और कपूर, धुप और लाल फूलों से सूर्य देव की पूजा करें। उसके बाद दान-पुण्य आदि करके सूर्यदेव से लम्बी आयु, अच्छे स्वास्थ्य और अच्छे जीवन का आशीर्वाद लें।

यह भी पढ़ें:-36 वर्ष बाद पड़ रहा यह चन्द्र ग्रहण, करें राशि अनुसार ये चीजें दान

वर्ष 2018 में रथ सप्तमी 24 जनवरी 2018, बुधवार को है।



रथ सप्तमी मुहूर्त

सूर्य रथ सप्तमी पर स्नान मुहूर्त = 05:29 से 07:17 बजे तक।

अर्घ्यदान के लिए सूर्योदय का समय = 06:13

सप्तमी तिथि समाप्ति = 24 जनवरी 2018, बुधवार 11:28 बजे।

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!