मां लक्ष्मी वर्षभर इन पर रहेंगी प्रसन्न, जानिए आर्थिक राशिफल

astrological remedies for finance

(finance horoscope 2018 by maa lakshmi worship on diwali in hindi )

दिवाली पर जानते हैं साल 2018 तक कैसी रहेगी मां लक्ष्मी की कृपा। मां लक्ष्मी की पूजन से किस राशि वालों के मिलेगा अधिक फायदा, किस राशि के जातकों पर प्रसन्न होगी माता लक्ष्मी। वैसे तो जीवन में गृहों के असर हमेशा रहते हैं। गृहों में हर दिन बदलाव होता हैं, लेकिन मां लक्ष्मी की पूजन का अलग ही महत्व हैं, दिवाली पर की गई, पूजन का असर वर्षभर रहता हैं। तो आइए ज्योर्तिविद पं. संजय शर्मा के साथ जानते हैं, कैसा रहेगा 2018 तक सभी राशियों का कैसा रहेगा राशिफल…

मेष

इस वर्ष आप शिक्षा के क्षैत्र में उन्नती प्राप्त करेंगे, कोर्ट कचहरी के मामलों मे विजय मिलेगी , महिला मित्रों से सावधान रहें, धन की आवक अच्छी रहेगी

आय व्यय में संतुलन बनाना होगा, नौकरी में पदौन्नती होगी, नौकरी के लिये यात्रा करना होगी, स्वास्थ्य का ध्यान रखें । मंत्र ऊॅं श्रीं हृं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद



श्रीं हृं श्री ऊॅं महालक्ष्म्ये नमः को प्रतिदिन 21 बार दोने समय पाठ करे,

माता लक्ष्मी की कृपा बरसेगी राहू ,केतु एवं शनि आराध्य है

वृषभ

वर्ष व्यावसायिक सफलता लेकर आया है नौकरी के लिये भटकना नहीं पडेगा, पर कारोबारी यात्रा की संभावना सॉफट्वेअर और फिल्म से जुड़े लोगों को उत्तम सफलता मिलेगी

जीवन साथी की उन्नती होगी , स्वभाव आलस्य से भरा हो सकता है, प्रणय संबंधों में सफलता मिलेगी, निर्णय शक्ति में कमी रहेगी, भूमि,भवन क्रय होंगे या भवन निमार्ण होगा।

कनकधारा स्तोत्र का पाठ 1 बार पश्चिम दिशा में मुह करके पढना चाहिये, रोजाना इस पाठ को घर पर या अपने प्रतिष्ठान पर एक बार प्रातः एवं एक बार संध्या काल में पढना चाहिये ।

माता लक्ष्मी हमेशा प्रसन्न रहेगी शनि एवं सूर्य आराध्य है ।

सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/

मिथुन

इस वर्ष आप व्यवसाय व नौकरी दोनां में सफलता प्राप्त करेंगे स्वास्थ्य की दृष्टि से वर्ष उत्तम है, सहयोगी मिलेंगे, भाई-बहनो की उन्नती होगी, माता के स्वस्थ्य का ध्यान रखें, कला के क्षैत्र में सफलता मिलेगी, बैंकिंग की परीक्षा में सफलता मिलेगी, धन की स्थिति उंच-नीच रहेगी, वर्ष मध्य के बाद शिक्षा में सफलता संभव ।  श्री सूक्त के पाठ के प्रथम 16 श्लोक दोनो समय कीजिये

माता लक्ष्मी सदा प्रसन्न रहेगी राहू एवं केतु आराध्य हैं

कर्क

नौकरी में पदोन्नती के अवसर आयेंगे, नौकरी बदल सकती है, गले में परेशानी हो सकती है खन पान का ध्यान रखें माता लक्ष्मी की कृपा से इस वर्ष आपका बैंक बेलेस बढता रहेगा, प्रचुर मात्रा में धन का संग्रह होगा, स्वस्थ्य की दृष्टि से वर्ष उत्तम रहेगा कीसी जमीन जायदाद को बचने की योजना बनेगी भवन निमार्ण की योजना बनेगी, मंत्र ऊॅं श्रीं श्रिये नमः मंत्र की 5 माला प्रतिदिन करने से माता लक्ष्मी की कृपा बरसती रहेगी, राहू , केतु आराध्य है

यह भी पढ़ें:- खैराबादधाम में आस्था और अनुष्ठान का इकलौता अष्टकोणीय श्रीफलौदी माता मंदिर

सिंह

नौकरी में स्थान परिर्वतन की संभावना है , शिक्षा में पूर्ण सफलता है, धन की प्रचुरता बनी रहेगी, मान सम्मान में बढोतरी होगी , माता का स्वास्थ्य उत्तम रहेगा,खान-पान का विषेश ध्यान रखें स्थाइ्र संपत्ती बनने की संभावना है, प्रतियोगी परीक्षा में सफलता मिलेगी, लेखन के क्षैत्र में ख्याति मिलेगी,



विदेश प्रवास की संभावना है। मंत्र ऊॅं महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णु पत्नि च धीमही तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात् मंत्र की एक एक माला सुबर शाम करने से माता लक्ष्मी की कृपा बरसेगी शनि आराध्य है।

कन्या

अकारण का क्रोध आपके काम को बिगाड़ सकता है, नौकरी बदलने या व्यवसाय बदलने का विचार त्याग दीजिये मिलने में देर होगी, धन की आवक अच्छी

रहेगी परन्तु खर्चों पर निसंत्रण रखें , सेहत पर ध्यान दें , बहार घूमने-फिरने की आदत डालें, तकनीकी शिक्षा पर जोर दें, आवेश में किया गया कार्य आपके सम्मान में कमी ला सकता है। कनकधारा स्तोत्र का पाठ 21 बार पश्चिम दिशा में मुह करके पढना चाहिये, लक्ष्मी माता की कृपा बरसेगी शनि एवं मंगल आराध्य है

तुला

प्रतियोगिता में सफलता मिलेगी, वाणी संयम आवश्यक है, प्रशासनिक क्षमता बढेगी, काम ढूंढने से नही जाना पडे़गा, पदान्नती के अवसर आयेंगे,खान पान का

परहेज रखना पड़ेगा, धन वृद्धि होगी, आय के स्रोत में वृद्धि होगी, समुद्र के पास जाने की यात्रा के योग है, मुह और पैरों में तकलीफ हो सकती है. स्वभाव रोमांटिक रहेगा।

मंत्र – श्री सूक्त के पाठ के प्रथम 16 श्लोक दोनो समय कीजिये माता लक्ष्मी सदा प्रसन्न रहेगी केतु एवं राहू आराध्य है

वृश्चिक

जनता से जुडे कार्य , राजनीति,व्यवसाय में उन्नती होगी, ब्लड प्रशर को नियंत्रण में रखने का प्रयत्न करें प्रतिष्ठा बढेगी, वैवाहिक जीवन में कठिनाईयां बढेगी, धन की आवक उत्तम रहेगी, स्वप्न द्वारा कोई जानकारी मिल सकती है, फूड पाईजेनिग से बचें. आंखो में तकलीफ हां सकती है , विदेश जाने का, प्रस्ताव मिल सकता है ।

मंत्र ऊॅं श्रीं हृं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं हृं श्री ऊॅं महालक्ष्म्ये नमः को प्रतिदिन 21 बार दोने समय पाठ करे माता लक्ष्मी की कृपा बरसेगी राहू एवं बुध आराध्य है

धनु

उच्च शिक्षा को लेकर जो सपने संजोये थे वे अब साकार होंगे, नौकरी में स्थानांतरण के योग है, व्यवसाय के लिए यात्रा करना होगी हिम्मत जवाब दे देगी, दांतो में चोट लग सकती है, कंप्यूटर साफ्टवेअर या आटोमोबाईल के क्षैत्र में सफलता मिलेगी, सीने में तकलीफ बढ सकती है, भाग्य रूक-रूक कर सफलता देगा ।

मंत्र कनकधारा स्तोत्र का पाठ 1 बार पश्चिम दिशा में मुह करके पढना चाहिये, रोजाना इस पाठ को घर पर या अपने प्रतिष्ठान पर एक बार प्रातः एवं एक बार संध्या काल में पढना चाहिये । माता लक्ष्मी हमेशा प्रसन्न रहेगी शुक्र , शनि एवं राहू आराध्य है

मकर

इस वर्ष व्यवसाय में उत्तम सफलता है, नौकरी में भी वेतन वृद्धि होगी,पुरानी व्याधि ठीक होगी, धन की आवक उत्तम होगी, शिक्षा कड़ी मेंहनत मांगेगी समाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी, प्रशासनिक क्षमता का विकास होगा , माता की सेहत में सुधार होगा, आपकी वाणी सबका मन जीत लेगी, गुप्त विद्याओं की तरफ रूझान बढेगा।

मंत्र- श्री सूक्त के पाठ के प्रथम 16 श्लोक दोनो समय कीजिये माता लक्ष्मी सदा प्रसन्न रहेगी. सूर्य, शनि एवं राहू आराध्य है

कुभ

कुछ मददगारों से आपका काम बन जायेगा, शिक्षा एवं व्यवसाय में सफलता मिलेगी, लंबी यात्राओ से सफलता मिलेगी,समाजिक अत्यधिक प्रतिष्ठा में वृद्धि

होगी, प्रशासनिक क्षमता का विकास होगा, भवन निर्माण की योजना फलीभूत होगी, नया काम शुरू होगा, परिचय क्षैत्र में वृद्धि होगी , व्यक्तित्व में आर्कषण बढेगा।



मंत्र- श्री सूक्त के पाठ के प्रथम 16 श्लोक दोनो समय कीजिये माता लक्ष्मी सदा प्रसन्न रहेगी, चंद्र,राहू एवं केतु आराध्य है

मीन

इस वर्ष व्यवसाय में परिर्वतन का मन बना सकते है. मदद मांगने पर भी नही मिलेगी, जोखि उठाने में डर लगेगा, घुटने में तकलीफ बढेगी, जीवन साथी से मतभेद रहेंगे, न्यायालयीन प्रकरणों में विजय मिलेगी छोटी यात्राओं के अवसर आयेंगे , अपनों के लिये समय निकालने में परेशानी होगी, गरदन में तकलीफ बढ सकती है ।

मंत्र कनकधारा स्तोत्र का पाठ 1 बार पश्चिम दिशा में मुह करके पढना चाहिये, रोजाना इस पाठ को घर पर या अपने प्रतिष्ठान पर एक बार प्रातः एवं एक बार संध्या काल में पढना चाहिये । माता लक्ष्मी हमेशा प्रसन्न रहेगी। राहू , शुक्र, एवं शनि आराध्य है।

 

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!