वर्ष 2018 में होंगे 2 चंद्रग्रहण: जानिए आपकी राशि पर क्या पड़ेगा असर

chandra grahan in india 2018

chandra grahan 2018 date and time impact dont do these thing during lunar eclipse on 31 january follow these precaution tips on chandra grahan

उज्जैन. नव वर्ष साल 2018 में दो चंद्रग्रहण व तीन सूर्य ग्रहण होंगे। चन्द्रमा और सूर्य के बीच में पृथ्वी के आ जाने को ही चन्द्र ग्रहण कहते हैं। चंद्र ग्रहण तब होता है, जब सूर्य व चन्द्रमा के बीच पृथ्वी इस प्रकार से आ जाती है, कि पृथ्वी की छाया से चन्द्रमा का पूरा या आंशिक भाग ढक जाता है। इस स्थिति में पृथ्वी सूर्य की किरणों के चन्द्रमा तक पहुंचने में अवरोध लगा देती है तो पृथ्वी के उस हिस्से में चन्द्र ग्रहण नज़र आता है। इस ज्योमितीय प्रतिबंध के कारण चन्द्र ग्रहण केवल पूर्णिमा की रात्रि को घटित हो सकता है। 31 जनवरी 2018 को इस वर्ष का पहला चंद्र ग्रहण घटित होगा। यह पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा, जो भारत समेत विश्व के कई देशों में देखा जाएगा। चंद्र ग्रहण को ज्योतिष शास्त्र में काफी महत्वपर्ण माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्र ग्रहण का असर हम सभी की राशि पर पड़ता है। जिससे हमारे जीवन में कई तरह के बदलाव आते हैं।

सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/

ज्योतिषाचार्य पंडित दयानंद शास्त्री ने बताया की इस नए वर्ष 2018 में दो चंद्रग्रहण व तीन सूर्य ग्रहण होंगे। सौर मंडल का प्रमुख ग्रह चंद्रमा सदी के पहले ग्रहण के रूप में 31 जनवरी को दिखाई देगा। दूसरा चंद्र ग्रहण 27 जुलाई को होगा। वहीं तीन सूर्य ग्रहण भी होंगे, लेकिन यह भारत में नहीं दिखाई देंगे।



ज्योतिषाचार्यों के अनुसार 31 जनवरी को पहला चंद्र ग्रहण पुष्य, अश्लेषा नक्षत्र एवं कर्क राशि में शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को बुधवार के दिन होगा। ज्योतिष गणना के अनुसार ग्रहण की काली छाया शाम 5.18 बजे चंद्रमा को स्पर्श पर लेगी। इसके बाद 6.22 बजे खग्रास काल प्रारम्भ होगा, जो ग्रहण के मोक्ष काल 8.41 बजे तक रहेगा। पूरा ग्रहण 3 घंटे 23 मिनट का रहेगा। भारत में यह चन्द्र ग्रहण आसाम, मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, मेघालय, पूर्वी पश्चिम बंगाल में चंद्रोदय के बाद शुरू होगा। देश के बाकी हिस्सों में ग्रहण चंद्रोदय से पहले आरंभ हो जाएगा, अर्थात ग्रस्तावस्था रूप में दिखाई देगा यह चन्द्र ग्रहण आस्ट्रेलिया, एशिया, उत्तरी अमेरिका में भी ग्रहण दिखाई देगा।

 

कितनी अवधि/समय का होगा यह चन्द्र ग्रहण chandra grahan ka time in india

ज्योतिषाचार्य पंडित दयानंद शास्त्री ने बताया कि विश्व में किसी सूर्य ग्रहण के विपरीत, जो कि पृथ्वी के एक अपेक्षाकृत छोटे भाग से ही दिख पाता है, चन्द्र ग्रहण को पृथ्वी के रात्रि पक्ष के किसी भी भाग से देखा जा सकता है। जहाँ चन्द्रमा की छाया की लघुता के कारण सूर्य ग्रहण किसी भी स्थान से केवल कुछ मिनटों तक ही दिखता है, वहीं चन्द्र ग्रहण की अवधि कुछ घंटों की होती है। इसके अतिरिक्त चन्द्र ग्रहण को सूर्य ग्रहण के विपरीत किसी विशेष सुरक्षा उपकरण के बिना नंगी आंखों से भी देखा जा सकता है, क्योंकि चन्द्र ग्रहण की उज्ज्वलता पूर्ण चन्द्र से भी कम होती है।



इस वर्ष संवत 2074 माघ सुदी पूर्णिमा खग्रास ग्रस्त उदित चंद्रग्रहण 31/1/2018 बुधवार को चंद्रग्रहण सुबह 8: 21 मिनट बजे से मान्य तथा ग्रहण का स्पर्श- प्रारंभ काल संयम 5 घंटा 21 मिनट से तथा मोक्ष शुद्धि काल रात्रि 8 घंटा 45 मिनट पर स्पष्ट है।
यह इस साल का पहला चंद्र ग्रहण होगा जिसकी समयावधि सायं 17:57:56 से रात्रि 20:41:10 बजे तक रहेगी। यह चंद्र ग्रहण उत्तर पूर्वी यूरोप, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, उत्तर पश्चमी अफ्रीका, नॉर्थ अमेरिका, उत्तर पश्चमी साउध अमेरिका, पेसिफिक, अटलांटिक, हिन्द महासागर, आर्कटिक और अंटार्कटिका दिखाई देगा और भारत में भी इसकी दृश्यता रहेगी।

भारतीय वैदिक ज्योतिष के अनुसार यह चंद्रग्रहण अश्लेषा नक्षत्र तथा कर्क राशि में लग रहा है। अश्लेषा बुध का नक्षत्र है इसलिए इस नक्षत्र से संबंधित राशि के लोगों के लिए यह ग्रहण समस्याएं उत्पन्न कर सकता है। चूंकि प्रत्येक राशि पर ग्रहण का प्रभाव भिन्न-भिन्न होता है, इसलिए कुछ राशि वालों के लिए यह ग्रहण कष्टकारी हो सकता है, तो कुछ राशि के लोगों के लिए कल्याणकारी भी हो सकता है।

यह भी पढ़ें:- अनोखे हैं ये भगवान गणेश, इस मंदिर में उल्टा स्वस्तिक बनाने से सीधे होते हैं बिगड़े काम!

किस समय लगेगा इस चंद्रग्रहण का सूतक? chandra grahan sutak time in hindi 
31 जनवरी 2018 को लगने वाला चंद्र ग्रहण जो कि पूर्ण चंद्रग्रहण है। चंद्रोदय के साथ आरंभ होगा। इस दिन चंद्रमा 17:58 बजे उदय होंगे। 20:41:10 बजे चंद्र ग्रहण की समाप्ति होगी। इस चंद्र ग्रहण की अवधि लगभग 2 घंटे 41 मिनट 10 सैकेंड की रहेगी।
चंद्रग्रहण हालांकि 31 जनवरी को चंद्रोदय के समय 17:58 बजे से आरंभ होगा लेकिन लेकिन इसका सूतक का समय प्रात: 7 बजकर 3 मिनट और 35 सैकेंड पर आरंभ हो जायेगा। जो कि रात्रि 08 बजकर 41 मिनट और 10 सैकेंड तक रहेगा। बच्चों एवं बुजूर्गों के लिये सूत्तक मध्यरात्रि 12 बजकर 40 मिनट और 27 सैकेंड से आरंभ होकर ग्रहण समाप्ति के समय तक रहेगा।

 

जानिए उज्जैन में सूतक का समय chandra grahan sutak time in ujjain

सूतक प्रारम्भ – ०७:०३:३५
सूतक समाप्त – २०:४१:१०
बच्चों, बृद्धों और अस्वस्थ लोगों के लिये सूतक प्रारम्भ – १२:४०:२७
बच्चों, बृद्धों और अस्वस्थ लोगों के लिये सूतक समाप्त – २०:४१:१०




जानिए उज्जैन में इस खग्रास चन्द्र ग्रहण का समय–
चन्द्र ग्रहण प्रारम्भ (चन्द्रोदय के साथ) – १८:१२:३५
चन्द्र ग्रहण समाप्त – २०:४१:१०
चन्द्रोदय – १८:१२:३५
स्थानीय ग्रहण की अवधि – ०२ घण्टे २८ मिनट्स ३५ सेकण्ड्स
उपच्छाया से पहला स्पर्श – १६:२१:१५
प्रच्छाया से पहला स्पर्श – १७:१८:२७
खग्रास प्रारम्भ – १८:२१:४७
परमग्रास चन्द्र ग्रहण – १८:५९:५०
खग्रास समाप्त – १९:३७:५१
प्रच्छाया से अन्तिम स्पर्श – २०:४१:१०
उपच्छाया से अन्तिम स्पर्श – २१:३८:२६
खग्रास की अवधि – ०१ घण्टा १६ मिनट्स ०४ सेकण्ड्स
खण्डग्रास की अवधि – ०३ घण्टे २२ मिनट्स ४३ सेकण्ड्स
उपच्छाया की अवधि – ०५ घण्टे १७ मिनट्स ११ सेकण्ड्स

चन्द्र ग्रहण का परिमाण – १.३२
उपच्छाया चन्द्र ग्रहण का परिमाण – २.२९

राजस्थान के हाड़ौती क्षेत्र में (कोटा,बूंदी,बारां और झालावाड में) ग्रहण का स्पर्श शाम 05:18 बजे से होगा और मोक्ष शुद्धि काल रात 08:41 बजे तक रहेगा।

 

ज्योतिषाचार्य पंडित दयानंद शास्त्री से जानिए इस चंद्र ग्रहण का सभी राशि पर होने वाले प्रभाव को chandra grahan 2018 hindi rashifal

मेष: खर्च बढ़ेगा (वृद्धि ) होगी।

वृषभ: सभी तरह से शुभ की संभावना। नौकरी और व्यापार में उन्नति होगी। मित्रों और प्रियजनों के साथ अच्छा समय व्यतीत करेंगे।

मिथुन: धन हानि हो सकती है। अधिक यात्रा करने की वजह से घर से दूर रहना पड़ सकता है। सेहत का विशेष ध्यान रखें, क्योंकि मानसिक अवसाद के शिकार हो सकते हैं।

कर्क: शारीरिक कष्ट से समस्या हो सकती है। गुप्त रोग होने की भी संभावना। वाहन सावधानी से चलाएं। तनाव मुक्त रहने के लिए स्वयं को अपने कार्य में व्यस्त रखें।



सिंह: वाद विवाद संभव |बेवजह की बातों से मानसिक चिंता बढ़ सकती है, इसलिए व्यर्थ ही किसी बात का तनाव ना लें। धन हानि होने की संभावना है। कुटुंब परिवार में कुछ समस्याएं उत्पन्न हो सकती है या सदस्यों के बीच मनमुटाव हो सकता है।

कन्या: अचानक धन लाभ होगा और विभिन्न प्रकार के भौतिक सुखों का आनंद मिलेगा। साहस और परामक्रम में वृद्धि होगी। छोटी दूरी की यात्रा की संभावना है। भाई-बहन अच्छा समय व्यतीत करेंगे।

तुला: शारीरिक विकारों से परेशानी बढ़ सकती है। किसी बात का भय बना रह सकता है। जीवन में संघर्ष बढ़ेगा। पारिवारिक जीवन में भी चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है।

वृश्चिक: किसी बात की चिंता करने से आप स्वयं को तनावग्रस्त महसूस करेंगे। प्रेम संबंधों में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। बेवजह के विवादों से बचने की कोशिश करें। पढ़ाई-लिखाई में अड़चनें आ सकती हैं।

धनु: विरोधियों से चुनौती मिल सकती है, वे कई तरह की समस्या उत्पन्न करेंगे। आर्थिक जीवन सामान्य रहेगा। धन लाभ के साथ-साथ खर्च भी बढ़ेंगे। किसी कानूनी मामले से परेशानी हो सकती है।

मकर: सावधानी बरतें | आपको वैवाहिक जीवन में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। जीवनसाथी के साथ मतभेद होने की संभावना है। बिजनेस पार्टनर के साथ भी किसी बात को लेकर टकराव या विवाद हो सकता है।

कुंभ: इस ग्रहण के प्रभाव स्वरूप शुभ योग बनाने की संभावना है।

मीन: मन वाणी को शांत रखें | किसी भी कार्य में सफलता प्राप्त करने के लिए आपको अत्यधिक प्रयास करने होंगे। आपकी परेशानी में वृद्धि होगी।

 

चंद्र ग्रहण ख़त्म होने के बाद क्या करें after effects chandra grahan 2018

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक चंद्र ग्रहण ख़त्म होने के बाद स्नान के बाद नए वस्त्र पहनने चाहिए। और ग्रहण के वक्त पहने हुए कपड़े दान कर देने चाहिए। ऐसा करने शुभ माना जाता है। साथ ही अपने पितरो को दान करना चाहिए।



ऐसा करने से घर में खुशहाली बनी रहती है। साथ जी ग्रहण काल में तुलसी के पौधे को नहीं छूना चाहिए। ऐसा करना शुभ नहीं माना जाता।

चंद्र ग्रहण के बाद पूजा पाठ का विशेष महत्त्व importance of chandra grahan 2018

चंद्र ग्रहण के बाद किसी धार्मिक स्थल पर जाना बहुत ही शुभ माना जाता है। और साथ ही इस समय भगवान् शिव की पूजा करना बहुत ही शुभ माना जाता है। ग्रहण काल ख़त्म होने के बाद घर में देवी देवताओं की मूर्तियों को गंगाजल छिड़क कर शुद्ध करना चाहिए। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक ग्रहण काम में घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है इसलिए ग्रहण ख़त्म होने बाद घर की साफ सफाई जरूर करें। और साफ सफाई ख़त्म होने के बाद घर में धुप (गूगल/कपूर इत्यादि) भी जलाएं। ऐसा करने से घर से नकारात्मक ऊर्जा का नाश होगा और घर में सकारात्मक ऊर्जा का वास होगा।

 

 whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!