रावण से युद्ध में घायल होकर इस मंदिर में गिरे थे जटायू, चमत्कार से नासा भी है हैरान

lepakshi temple history in hindi

(lepakshi mandir hanging pillar mystery)

अनंतपुर. आंध्रप्रदेश के अनंतपुर में लोपाक्षी गांव में रामायणकालीन चमत्कारी मंदिर आज भी हैं। पौराणिक मान्यता हैं कि इस मंदिर परिसर में ही रावण और जटायू में युद्ध हुआ था और जटायू माता सीता को बचाने के दौरान घायल होकर यहीं गिर पड़े थे, जिसके बाद भगवान राम ने उनका उपचार करवाया था। यह सच्ची घटना आज भी यहां हर किसी के मुहं से सुनी जाती हैं। इस घटना के बाद यहां चमत्कारी मंदिर बना, जिसे देखकर अमेरिकी वैज्ञानिक भी अचंभित हैं।


कपड़ा निकले तो बढ़ती हैं सुख-समृद्धि
लेपाक्षी गांव में 16 वीं शाताब्दी कलात्मक लेपाक्षी मंदिर से पहचाना गया। यहां भगवान शिव, शिष्णु और भगवान वीरभद्र के तीन मंदिर हैं। लेपाक्षी मंदिर हैंगिंग पिलर पर खड़ा हैं, जिसे हैंगिंग पिलर टेम्पल भी कहा जाता हैं। यह मंदिर कुल 70 खंभो पर खड़ा जिसमें एक खंभा जमीन को नहीं छूता हैं, बल्कि हवा में ही लटका हुआ है। एक बार ब्र्रिटिश इंजीनियर ने यह जानने के लिए पूरे मंदिर को हिला दिया था, तब से यह पिलर झूलता हुआ ही हैं। श्रद्धालू इसके नीचे कपड़ा निकलने से सुख समृद्धि बढ़ती मानते हैं।

सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/

यह है रामायण की कथा
जब भगवान राम माता सीता को तलाशने के लिए जगंल में भटक रहे थे, तब भगवान राम ने घायल पक्षी ने देख कहा था, कि लेपाक्षी यानी कि उठो पक्षी। भगवान राम ने जटायू को उठाया इसके बाद से ही वहां मंदिर हैं।



लेपाक्षी मंदिर में देखने लायक कई चीजे आज भी रामायणयुग की हैं। कलात्मक दृष्टि से बेहद उत्कृष्ट बना हैं। यहां भगवान गणेश की मूर्ति, लाइमस्टोन का ढेर, मंदिर परिसर में एक जगह मंदिर निर्माण के दौरान बचे चुने पत्थर का एक ढेर है, जिसकी भी श्रद्धालू पूजन करते हैं।

whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top
error: Content is protected !!