भजन से ज्यादा ईश्वर पर भरोसा बढ़ाओ -पं.कमलकिशोर नागरजी

bhagwat katha, bhagwat katha hindi
(bhagwat katha vachak pandit shri kamal kishor ji nagar bhagwat katha hindi me)
अरविंद गुप्ता @ बारां। ज्ञान महायज्ञ: बारां के पास श्री बड़ां के बालाजी मंदिर परिसर में श्रीमद्भागवत ज्ञान यज्ञ महोत्सव के पहले दिन उमड़ा भक्तों का सैलाब। दिव्य गौसेवक संत पूज्य पं.कमलकिशोर ‘नागरजी’ ने कहा कि लौकिक व्यवहार मेें कुछ चीजें हमें ईश्वर प्रदŸा मिलती हैं। घर-परिवार में सुख, सम्पत्ति या संतान की कमी होने पर हम दुखी हो जाते हैं। जरा सोचो, कितना काम उसके भरोसे छोड़कर कर रहे हो। हम भजन तो कर रहे हैं लेकिन उस पर भरोसा कम है। जबकि भजन से ज्यादा उसका भरोसा बड़ा है।

बारां के नजदीक प्राचीन श्रीबड़ा के बालाजी मंदिर परिसर में श्रीमहावीर गौशाला कल्याण संस्थान द्वारा आयोजित श्रीमद् भागवत ज्ञान यज्ञ महोत्सव एवं गौ-सम्मेलन में सोमवार को पूज्य नागरजी ने कहा कि इच्छा रहित मन बनाओ। मन में सोच लो कि ये मैने नहीं किया, ये हरि इच्छा से हुआ है। भजन ‘मुसाफिर यूं क्यूं भटके रे, ले ले हरि का नाम, काम तेरो कभी न अटके रे…’ सुनाते हुए उन्होंने कहा कि हम ईश्वर पर आश्रित को देखना भूल गए। आज अस्पतालों के हड्डी वार्ड में दोनों आंखों वालों से भरे हुए हैं, वहां किसी अंधे के पैरों पर प्लास्टर नहीं देखा होगा। वो बिना आंख सब जगह घूम लेता है लेकिन गिरता नहीं है। ईश्वर ने हमें सुंदर शरीर दिया, फिर दूसरी अपेक्षाएं क्यों बढ़ रही हैं। उसी पर आश्रित जीवन जीओ। समय से पहले वह नहीं देता है।

एक वृतांत में उन्होंने व्यवहारिक जीवन के यथार्थ को समझाया। उन्होंने कहा कि सब्जी या किराने वाले के पास हम चीजों का नाम लेते हैं, लेकिन मेडिकल स्टोर पर हम पर्ची देकर खडे़ रहते हैं। क्या दवा देना है, वो जानता है। यही प्रयोग ईश्वर के आगे करो। प्रार्थना भाव में खडे़ रहो, ईश्वर से वस्ुतओं का नाम लेकर आदेश मत दो। वह अन्तर्यामी है, जो खड़ा रहा, मौन रहा, उसे जल्द मिला है।

जैन संतों का उदाहरण देकर उन्होंने कहा कि वे पहले बताते नहीं कि क्या आहार लेंगे, लेकिन उन्होंने जो सोचा किसी घर में वह मिल गया तो ग्रहण कर लेते हैं, अन्यथा आगे चल देते हैं। इसीलिए 12 करोड़ बच्चे जन्म लेने के बाद महावीर अवतरित होते हैं। सोमवार सुबह मंदिर से कथा स्थल तक भव्य कलश यात्रा निकाली गई, जिसमें यजमान प्रमोद जैन भाया व श्रीमती उर्मिला भाया ने श्रीमद् भागवत को मंच पर विराजित किया। श्री महावीर गौशाला कल्याण संस्थान

देनहार कोई ओर है (kamal kishor ji nagar bhajan)

पूज्य ‘नागरजी’ ने एक प्रसंग में कहा कि जीवन में दूसरों से अपेक्षाएं बढ़ती जा रही हैं। इसमें तीन बातें अहम हैं। पहला, माता-पिता ने जीवन दिया, उनसे और कोई अपेक्षा मत रखो। दूसरा, ससुराल से दहेज की अपेक्षा मत करो। तीसरा, दुकान में किसी ग्राहक से कुछ ज्यादा लेने की अपेक्षा मत रखो। सोचो, यदि ये ही हमें सब कुछ दे देंगे तो फिर ईश्वर हमारे लिए क्या करेंगे। परिवारों में सम्पŸिा लेने के लिए लड रहे हैं। देनहार कोई और है। उसका देने का तरीका ही अलग है। हम उसमें आस रखें और आश्रित होकर देखें।

ईश्वर से तार जुडे़ या नहीं, यह प्रयोग करके देखो (kamal kishor ji nagar katha hindi)

पूज्य ‘नागरजी’ ने कहा कि अपनी कर्मगति को तीन बातों से समझ सकते हैं। पहला, हमने कोयला उठाकर बाहर फेंका तो हाथ काले हो गए, वही हाथ मुंह पर लगे तो मुंह भी काला हुआ लेकिन इसे हम धो सकते हैं। दूसरा, कोई धूप में ज्यादा देर खड़ा रहा तो काला हो गया लेकिन क्रीम से कुछ दिन में वह ठीक हो जाएगा। तीसरा, जो जन्मजात काला है, उसे ईश्वर ही ठीक कर सकता है।

इसी तरह, कर्म करते हुए रिश्वत या भ्रष्टाचार से गलत पैसा कमाया, तो समझ लेना मैने कोयला पकड़ लिया है। इस पाप को किसी पवित्र अनुष्ठान से दूर कर सकते हैं लेकिन जो जन्मजात आसुरी वृत्ति लेकर आए और उत्पात मचा रहे हैं, वे इसी भोग में जीवन बिताएंगे। हमें सतोुगण, रजोगुण व तमोगुण तीन तरह के लोग दिखते हैं। हम दोष रोज कर रहे हैं, इसलिए नित्य भजन को आदत बनाओ। किसी काम को ईश्वर को सौगंध खाकर पूरा मत करो, उसमें भरोसा बढ़ाओ। ईश्वर से मेरे तार जुडे़ या नहीं, यह प्रयोग करके देखो। कथा में कोई पवित्र शब्द भी आपके पाप को हर लेते हैं।

प्रथम सोपान के सूत्र (kamal kishor ji nagar ke pravachan)

– पहले लड़का पैदा हो, 20 साल बाद बहू के रूप में लड़की चाहिए, विवाह के बाद फिर लडका पैदा हो। ये सब हरि इच्छा पर छोड़ दो।
– हे प्रभू, बुढापा ऐसा देना कि मेरे भजन मैं ही कर सकूं। मेरे काम मैं स्वयं कर सकूं।
– निज में निज का बोध करा दे, हरे पाप, हरि हर से मिला दे। मेरी सीधी बात करा दे, ऐसा कोई संत मिले।
– जिसके पास पवित्र तन,मन और धन है, वही धन्य है

whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

 

One thought on “भजन से ज्यादा ईश्वर पर भरोसा बढ़ाओ -पं.कमलकिशोर नागरजी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top
error: Content is protected !!