मौनी अमावस्या से प्राप्त करें अक्षय पुण्यफल, मुख से कोई भी कटु शब्द न निकालें

mauni amavasya story in hindi

mauni amavasya 2018 date and time pujan vidhi mantra silence fast benefits on hindu fastival of india in hindi

हिंदू धर्म में मौनी अमावस्या का विशेष महत्व है क्योंकि इसे सबसे बड़ी अमावस्या माना गया है. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान और दान कर अक्षय पुण्यफल प्राप्त की जा सकती है. शिव महापुराण में मौनी अमावस्या का महत्व बताया गया है कि जो मनुष्य इस दिन गंगा, यमुना आदि नदियों में स्नान करके सच्चे मन से दान करता है उस पर समस्त ग्रह-नक्षत्रों की कृपा बनी रहती है. क्योंकि मान्यता है कि जब सागर मंथन से भगवान धन्वन्तरि अमृत कलश लेकर निकले तो देवताओं और राक्षसों की लड़ाई की वजह से अमृत कलश से अमृत की कुछ बूंदे संगम में गिर गई थी, इसलिए नदी स्नान से अमृत प्राप्त होता है जो ग्रह कष्ट निवारण में सहायक होता है. मौनी अमावस्या का महत्व जानते हैं पंडित पीएस त्रिपाठी से…



इस दिन भगवान मनु का भी जन्म हुआ था. इस व्रत को मौन धारण करके व यमुना या गंगा में स्नान करके समापन करने वाले को मुनि पद की प्राप्ति होती है। चंद्रमा मन के स्वामी हैं पर अमावस्या को चंद्र दर्शन नहीं होने से मन कमजोर होता है। अतः मौन रखकर मन को संयम में रखने और मानसिक जाप करने से मन शांत रहता है, जिससे जीवन में भी शांति बनी रहती है… अत: अगर चुप रहना संभव नहीं है तो कम से कम अपने मुख से कोई भी कटु शब्द न निकालें.

 

मौनी अमावस्या का समय mauni amavasya 2018 date time shubh muhurat in hindi

अमावस्या तिथि = 16 जनवरी 2017, मंगलवार 05:11 बजे प्रारंभ होगी।
अमावस्या तिथि = 17 जनवरी 2017, बुधवार 07:47 बजे समाप्त होगी।
 यह भी पढ़ें:-  मौनी अमावस्या 2018 व्रत कथा, इन तांत्रिक उपायों के साथ करें दान मिलेगा 1 लाख गुना फल

कुम्भ मेले के दौरान इलाहबाद के प्रयाग में मौनी अमावस्या का स्नान सबसे महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि इस दिन हिन्दू धर्मवलंभी न केवल मौन व्रत रखते है बल्कि भगवान् पूजा अर्चना भी करते है।

जानिए इस मोनी अमावस्या पर विशेष क्या करे mauni amavasya 2018 puja

 *सुबह शाम स्नान क संकल्प करे
*जल को सिर पर लगाकर स्नान करे



*साफ कपड़े पहने
*सूर्य को  तिल डालकर जल चढ़ाये
*श्री कृष्णा और शिवजी के कोई भी मंत्र का उचारण  करे
*दान करे
*जल और  फल खाकर  व्रत करे ।

इस मंत्र का करें जाप  mantra in hindi

अमावस्या के दिन इस मंत्र के जप से विशेष उपलब्धि प्राप्त होगी। साथ ही स्नान दान का पूरा पुण्य भी मिलेगा।
यह हैं मंत्र–
अयोध्या, मथुरा, माया, काशी कांचीअवन्तिकापुरी, द्वारवती ज्ञेया: सप्तैता मोक्ष दायिका।।
गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती, नर्मदा सिंधु कावेरी जलेस्मिनेसंनिधि कुरू।।



क्या करें उपाय राहु केतु के लिये rahu ketu ki shanti ke upay in hindi

-शिवजी के मंदिर ज़रूर जाये
-शिवलिंग पर जल चढ़ाये



-एक रुद्राक्ष की माला अर्पित करे और धूप दीप जलाकर नीचे दिये मंत्र को 108 बार बोले :
और रुद्राक्ष की माला धारण कर ले । ग्रहों की दोषों का भी निवारण होता है । गले मे पहन ले जीवन की परेशानियों से  मुक्ति मिलेगी |

 whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!