भगवान दत्तात्रेय के इस मंदिर का इतिहास स्मार्ट सिटी से भी पुराना, चमत्कार देख देशभर से आते हैं भक्त

datta jayanti special story of datta mandir at krishnapura indore in hindi

(lord dattatreya jayanti 2017 famous temple of god datta story in hindi)
इंदौर. हिंदू धर्म में भगवान दत्तात्रेय को त्रिदेव, ब्रह्म, विष्णु और महेश का एकरुप माना गया है। मान्यताओं के अनुसार श्री दत्तात्रेय भगवान विष्णु के छठवे अवतार हैं। भगवान दत्तात्रेय की जयंती मार्गशीर्ष माह में मनाई जाती है। इस बार श्री दत्तात्रेय जयंती रविवार को 3 दिसंबर को मनाई जाएगी।
देशभर में भगवान दत्तात्रेय के कई चमत्कारिक मंदिर हैं। उन्हीं मंदिर में से एक है, इंदौर के कृष्णपुरा स्थित श्रीदत्त मंदिर। यह मंदिर अपनी कुछ अलग पहचान रखता हैं। इस मंदिर में इंदौर की होलकर रियासत के सूबेदार मल्हारराव होलकर के मालवा (इंदूर) आगमन से भी पहले से भगवान दत्तात्रेय विराजे हैं।



स्मार्ट सिटी इंदौर के इतिहास से पहले से ही विराजे भगवान दत्तात्रेय मंदिर में दर्शन मात्र से भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करते हैं। मंदिर के पुजारी नरहरि दत्तात्रे शुक्ला बताते हैं कि भगवान के चमत्कार देखकर भक्त देशभर से मंदिर में दर्शन करने के लिए आते हैं।

सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/

मार्गशीर्ष माह में भगवान दत्तात्रेय की जयंती (bhagwan dattatreya jayanti, datta jayanti date 2017)

हिंदू धर्म में भगवान दत्तात्रेय को त्रिदेव, ब्रह्म, विष्णु और महेश का एकरुप माना गया है। मान्यताओं के अनुसार श्री दत्तात्रेय भगवान विष्णु के छठवे अवतार हैं। भगवान दत्तात्रेय की जयंती मार्गशीर्ष माह में मनाई जाती है। दत्तात्रेय में ईश्वर और गुरु दोनों रुप समाहित हैं, इसलिए उन्हें परब्रह्ममूर्ति सद्गुरु और श्रीगुरुदेवदत्त भी कहा जाता हैं। भगवान दत्तात्रेय को गुरु वंश का प्रथम गुरु, साथक, योगी और वैज्ञानिक भी माना जाता हैं। दत्तात्रेय ने व्योमयान उड्डयन की शक्ति का पता लगाया था और चिकित्सा शास्त्र में क्रांतिकारी अन्वेषण किया था।

यह भी पढ़ें:- श्री दत्तात्रेय मंदिर में जयंती महोत्सव, 10 दिनों तक ऐसा होगा भव्य आयोजन

जागृत हैं श्री दत्तात्रेय मंदिर (datta temple near me )

इंदौर के कृष्णपुरा का दत्त मंदिर जागृत अवस्था में होने से भगवान के दर्शन करने के लिए देशभर से भक्त पहुंचते हैं।



मंदिर के पुजारी नरहरि दत्तात्रे शुक्ला ने बताया कि श्री दत्तात्रेय भगवान के जागृत मंदिर का जिक्र मराठाशाही बखर में मिलता है। यहां समर्थ रामदास स्वामी ने साधना की और नजदीक ही खेड़ापति हनुमान की स्थापना भी की।

भगवान दत्तात्रेय के दो मंत्र करेंगे हर समस्या हल (bhagwan dattatreya mantra in hindi )

ऊँ द्रां दत्तात्रेयाय नम:
ऊँ दिगंबराय विह्महे योगीश्रारय् धीमही तन्नो दत: प्रचोदयात

दत्त भगवान को प्रसन्न करने उपाय (importance of chanting shri gurudev datta)
मंदिर में लगातार 7 हफ्ते तक गुड़, मूंगफली का प्रसाद अर्पित करने से बेरोजगार लोगों को रोजगार प्राप्त होता है।

 

whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

2 thoughts on “भगवान दत्तात्रेय के इस मंदिर का इतिहास स्मार्ट सिटी से भी पुराना, चमत्कार देख देशभर से आते हैं भक्त

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!