भगवान शिव स्वयं आते हैं इंसानों के भूत भगाने, मालनमाई के मंदिर में लगता है भूतों का मेला

छिंदवाड़ा. मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा के गांव तालखमरा में मालनामाई का प्रसिद्ध मंदिर हैं। यहां मान्यता हैं कि यहां कार्तिक पूर्णिमा से शुरु हुए मेले में तांत्रिकों के आव्हान पर भगवान शिव और मालनमाई स्वयं आते हैं और मानसिक रुप से परेशान लोगों, लोगों में भूत का आना, बुरी आत्माओं से छुटकारा दिलाने की मनोकामना पूरी करते हैं। यहां सदियों से भूतों का मेला लगता हैं। यहां दूर-दूर से श्रद्धालु बड़ी आस्था के साथ अपनी मनोकामना लेकर आते हैं। इंसानों से भूत भगाने और मनोकामना सिद्धी के लिए लोग दूर-दूर से बड़ी

पौराणिक रहस्य, इस मंदिर में आज भी आती है एक दिव्य आत्मा

सतना। वैसे तो भारत देश में ओर से छोर तक कहीं भी चमत्कारों की कमी नही है, लेकिन कुछ ऐसे भी रहस्य हैं जिनसे अब तक पर्दा नहीं उठ सका है। कोई इसे चमत्कार मानता है तो कोई दैविय शक्ति, तो कोई भक्ति का एक ऐसा उदाहरण जिसके बारे में सिर्फ किताबों में ही पढ़ने नही मिलता, बल्कि हर रोज साक्षात् देखने भी मिलता है। जी हां, आज यहां हम बात कर रहे हैं सतना के समीप ही स्थित सुप्रसिद्ध दैविय स्थान मैहर की, जो कि एक शक्तिपीठ के रूप

भगवान राम का वनवास 14 वर्ष ही क्यों ? कम या ज्यादा क्यों नहीं, जानिए अब तक का सबसे बड़ा रहस्य :o

हिंदू धर्म में श्रीराम को श्रेष्ठ पुरुष माना जाता है क्योंकि भगवान विष्णुजी ने श्रीराम के रूप में जन्म लेकर मानवजाति का उद्धार किया था. सभी जानते हैं कि त्रेता युग में भगवान राम को जो 14 सालों का वनवास हुआ था वो बहुत ही दुखदायी था और ऐसा कोई पिता अपने बेटे के साथ नहीं कर सकता है. महाराज दशरथ ने अपने सबसे प्रिय पुत्र को 14 वर्षों का वनवास दिया और खुद बीमारी के वनवास में चले गए, क्योंकि उन्होंने अपनी रानी कैकेयी के वचन को पूरा करने के

मेहंदीपुर बालाजी के दरबार में होता है सबका उद्धार, दूर होते हैं सभी संकट :o

आप लोगों ने यह तो सुना ही होगा कि जब कोई अपराधी से जुर्म कबूल करवाना होता है तो पुलिस वाले शातिर अपराधियों को थर्ड डिग्री देते हैं परंतु क्या आप लोगों ने कभी यह सुना है कि भूत प्रेत या बुरी आत्माओं को भी थर्ड डिग्री दिया जाता है आप इस बात को सुनकर हैरान जरूर हो गए होंगे परंतु भारत में एक ऐसा मंदिर है जहां पर भूत प्रेत और बुरी आत्माओं को थर्ड डिग्री दिया जाता है यह राजस्थान में मेहंदीपुर के बालाजी का मंदिर है यहां पर

भगवान शिव साक्षात विराजमान है इस गुफा में, दर्शन करने वाला नहीं आता लौटकर :o

आप सभी लोगों ने किस्से कहानियों में या फिर किसी से यह बात जरूर सुनी होगी कि भगवान शिव जी अभी भी इस दुनिया में है और वह कैलाश पर्वत पर निवास करते हैं हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार कैलाश पर्वत पर भगवान शिव जी, माता पार्वती जी और उनके दोनों पुत्र कार्तिकेय और श्री गणेश जी रहते हैं अगर हम भगवान शिव जी से जुड़े तीर्थ स्थल की बात करें तो अमरनाथ और केदारनाथ का सबसे पहले ख्याल मन में आता है परंतु आपको भगवान शिव जी से जुड़े

चुनरी बांधने मात्र से ही हो जाती है हर मनोकामना पूरी, जानिये इस अद्भुत मंदिर के बारे में :o

हमारा भारत वर्ष एक धार्मिक देश माना जाता है हमारे भारत में लगभग सभी धर्मों के लोग देखने को मिलते हैं और यह सब आपस में एक दूसरे के साथ भाईचारे से मिल जुल कर रहते हैं वैसे देखा जाए तो हमारे भारत में हिंदू धर्म के लोग सबसे अधिक हैं जो हिंदू धर्म पर विश्वास रखते हैं ऐसा माना जाता है कि हिंदू धर्म में करोड़ों देवी देवता हैं जिनकी सभी लोग अपनी श्रद्धा के अनुसार पूजा करते हैं हमारे देश में बहुत से मंदिर ऐसे हैं जो अपने चमत्कार

यहाँ छिपा कर रखा गया था भगवान कृष्ण का दिल, लाखों लोग आते हैं देखने, एक गलती से जा सकती है जान :o

हमारा भारत देश देवी देवतायों की जन्म भूमि माना जाता है. यहाँ सदियों पहले भगवान रहते थे. इस बात का पता हमे पुराणिक ग्रंथों से लगता है. यहाँ के लोग काफी धार्मिक स्वभाव के हैं और मिल जुल कर रहना पसंद करते हैं. देवी देवतायों की इस धरती पर आज भी कईं ऐसे राज़ हैं, जिन पर से पर्दा उठाना आम इंसान के बस की बात नहीं है. आज भी कईं धार्मिक स्थलों पर अलोकिक शक्तियां महसूस की गई है जिन्हें ना चाहते हुए भी विज्ञान मानता चला आ रहा है.

जानिए शिवलिंग का पूरा रहस्य, कैसे हुई इसकी उत्पत्ति और क्यों की जाती है इसकी पुजा :o

भारत में बारह ज्योर्तिलिंग हैं जिसके विषय में मान्यता है कि इनकी उत्पत्ति स्वयं हुई। इनके अलावा देश के विभिन्न भागों में लोगों ने मंदिर बनाकर शिवलिंग को स्थापित किया है और उनकी पूजा करते हैं। शिवलिंग का अर्थ है भगवान शिव का आदि-अनादी स्वरुप। शून्य, आकाश, अनन्त, ब्रह्माण्ड और निराकार परमपुरुष का प्रतीक होने से इसे लिंग कहा गया है। स्कन्द पुराण में कहा है कि आकाश स्वयं लिंग है, धरती उसका पीठ या आधार है और सब अनन्त शून्य से पैदा हो उसी में लय होने के कारण इसे

99% लोग वैष्णो देवी मंदिर के इस राज़ से है अनजान, जानिये इस मंदिर की गुप्त बातें :o

भारत देश रीति रीवाज़ो और संस्कारों का देश माना जाता है यहाँ के लोग भगवान और उनकी आस्था में बहुत विश्वास रखते हैं. शायद इसी लिए भारत को देवी देवतायों का स्थान माना जाता है. यहाँ कईं गुरूद्वारे , मंदिर और मस्जिद मौजूद है जहाँ आए दिन श्रद्धालुयों का तांता लगा रहता है. इन्ही में से आज हम आपको हिंदुयों के एक ऐसे धार्मिक स्थल के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका नाम शायद देश का हर बच्चा बच्चा जानता है. दरअसल यह कोई और स्थान नहीं बल्कि वैष्णो देवी

जानिए भोले बाबा के ऐसे चमत्कारी मंदिर के बारे में ,जो अपने आप ही दो बार हो जाता है ग़ायब ..

सावन के महीने की शुरुआत होने वाली है हर तरफ़ शिवभक्त भगवान शिव को प्रसन्न करने की तैयारियों में लगे हुए हैं। कोई काँवर ले जाने की तैयारी में लगा हुआ है तो कोई भगवान शिव की विशेष पूजा की तैयारी कर रहा है। भारत में भगवान शिव के कई ऐसे प्राचीन और चमत्कारी मंदिर हैं, जिनके बारे में लोग जानकर हैरान रह जाते हैं। आपने भी भगवान शिव के कई मंदिरों का दर्शन किया होगा। लेकिन आज हम आपको भगवान शिव के ऐसे एक चमत्कारी मंदिर के बारे में बताने

Top
error: Content is protected !!