जानिए भोले बाबा के ऐसे चमत्कारी मंदिर के बारे में ,जो अपने आप ही दो बार हो जाता है ग़ायब ..

सावन के महीने की शुरुआत होने वाली है हर तरफ़ शिवभक्त भगवान शिव को प्रसन्न करने की तैयारियों में लगे हुए हैं। कोई काँवर ले जाने की तैयारी में लगा हुआ है तो कोई भगवान शिव की विशेष पूजा की तैयारी कर रहा है। भारत में भगवान शिव के कई ऐसे प्राचीन और चमत्कारी मंदिर हैं, जिनके बारे में लोग जानकर हैरान रह जाते हैं। आपने भी भगवान शिव के कई मंदिरों का दर्शन किया होगा। लेकिन आज हम आपको भगवान शिव के ऐसे एक चमत्कारी मंदिर के बारे में बताने

अमरनाथ यात्रा से लौटे भक्त बोले, चमत्कारिक है बाबा बर्फानी, बाबा ऐसे करते हैं कष्ट दूर

श्रीनगर. साल 2018 की अमरनाथ यात्रा में भक्तों ने श्रद्धा और आस्था के जोश से हिस्सा लिया। यह यात्रा 26 अगस्त रक्षाबंधन के दिन तक चलेगी। अमनाथ यात्रा पर गए भक्तों ने कहा कि बाबा बर्फानी बेहद चमत्कारिक है। यहां आने के बाद बाबा सभी की किस्मत चमका देते हैं। छत्तीसगढ़ के कांकेर से अमरनाथ यात्रा पर जयश्री शुक्ला, आरुषि शुक्ला और आदित्य शुक्ला गए थे। शुक्ला परिवार के सदस्यों ने इस धार्मिक यात्रा में बाबा बर्फानी का महत्व बताते हुए कहा कि यहां सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। हिमालय

यहां जागृत है मां चामुंडा और तुलजा, इनके गुस्से से डरे थे हनुमानजी

देवास.देशभर में 52 शक्तिपीठ में से मां चामुंडा और तुलजा दरबार को विशेष शक्तिपीठ के रूप में माना जाता है। दरअसल आज भी मध्यप्रदेश के देवास में इन माताओं की दोनों मूर्तियां जागृत और स्वयंभू स्वरूप में हैं। माताओं के सामने मन से मांगी गई मन्नत हमेशा पूरी होती है। यहां की एक धार्मिक कथा दूर-दूर तक जानी जाती है। देवी के रौद्र रुप को देख शिव के नतमस्तक होने की कथा कई जगहों पर सुनने को मिलती है। लेकिन देवी के गुस्से को देखकर हनुमानजी के डरने की सच्ची कहानी सिर्फ देवास की माताजी के

क्यों पड़ते है श्री जगन्नाथ भगवान प्रत्येक वर्ष बीमार?

jagannath temple puri

उड़ीसा प्रान्त में जगन्नाथ पूरी में एक भक्त रहते थे , नाम था माधव दास श्री माधव दास जी अकेले रहते थे, संसार से इनका कोई लेना देना नही | अकेले बैठे बैठे भजन किया करते थे, नित्य प्रति श्री जगन्नाथ प्रभु का दर्शन करते थे और उन्ही को अपना सखा मानते थे, प्रभु के साथ खेलते थे | प्रभु इनके साथ अनेक लीलाए किया करते थे | भक्त माधव दास जी अपनी मस्ती में मग्न रहते थे | एक बार माधव दास जी को अतिसार( उलटी – दस्त ) का

हिंदू मान्यताओं में काफी अहम है कैलाश मानसरोवर!

हिंदू मान्यताओं में पशुपतिनाथ मंदिर काफी अहम हैं। यह मंदिर नेपाल की राजधानी काठमांडू के उत्तर-पश्चिम में हैं। पशुपतिनाथ मंदिर को नेपाल का सबसे पौराणिक मंदिर कहा जाता हैं, यूनेस्को ने पशुपतिनाथ मंदिर को विश्व की सांस्कृतिक विरासत स्थल की सूचि में रखा हैं। यहां भारत से दर्शन करने हर माह हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं।हाल ही में छत्तीसगढ़ महिला आयोग की सदस्य ममता साहू भी मंदिर में दर्शन और पूजन करके वापस लौटीं हैं। उन्होंने बताया कि मानसरोवर झील में डूबकी लगाकर शिवजी का पूजन हवन हुआ।

शमशान पर विराजी है ये चमत्कारी कंकाली माता, 400 साल पहले 1 सपने के बाद बना था मंदिर

kankali mata mandir raipur

(real story of kankali mata mandir raipur chhattisgarh history in hindi)रायपुर. दुर्गा मां के देशभर में कई मंदिर हैं, लेकिन छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक ऐसा चमत्कारी मंदिर हैं, जो केवल सालभर में एक बार ही खुलता हैं। 400 साल पुराना ऐतिहासिक मंदिर शमशान के ऊपर बना हुआ हैं। इस मंदिर के निर्माण की कहानी भी निराली हैं, मंदिर का निर्माण मां के दिए हुए एक सपने के बाद हुआ था। कंकाली मठ के नाम से यह मंदिर देशभर में प्रसिद्ध हैं। पण्डित मनोज शुक्ला महामाया मंदिर रायपुर ने बताया

भय्यू महाराज: लोगों को जिंदगी का पाठ पढ़ाने वाले संत ने कर ली खुदकुशी

इंदौर. भय्यू महाराज ने मध्यप्रदेश के इंदौर में अपने घर में मंगलवार को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। घटना के तत्काल बाद उन्हें इंदौर के ही बाम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने गहन परिक्षण कर बताया कि वे आधे घंटे पहले ही देह त्याग चुके हैं। भय्यू महाराज ने अपनी दाहिनी कनपट्टी पर घर के ही बंद कमरे में खुद को गोली मार ली। जैसे ही गोली की आवाज आई तो सभी कमरे की ओर दौडक़र गए तब पता चला। उन्का अंतिम संस्कार बुधवार को किया जाना बताया जा रहा

भादवा माता मंदिर में दर्शन मात्र से ठीक हो जाते है लकवा के मरीज!

bhadwa mata temple neemuch

miraculous temple for lakwa disease treatment in bhadwa mata temple neemuch hindi storyनीमच. मां यानी शक्ति का साक्षात रुप, जो विभिन्न रुपों में भक्तों की समस्याएं हरण करती हैं। फिर भलेहीं वे माता त्रिकुट पर्वत पर विराजमान मां वैष्णवी हों, पावागढ़ वाली मां हो या महामाया देवी भादवा माता ही क्यों न हों। माता का हर रूप चमत्कारी और मनोहारी हैं, जिनके दर्शन मात्र से ही सारे संकट दूर हो जाते हैं, समस्याएं हल हो जाती हैं।सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/मध्यप्रदेश का नीमच के

भगवान श्रीकृष्ण जैसे पुत्र के लिए इस मंदिर में मां यशोदा देती हैं आशीर्वाद!

amazing story of goddess yashoda mata mandir indore madhya pradesh in hindi

amazing story of goddess yashoda mata mandir indore madhya pradesh in hindiइंदौर. पूरे देश में माता यशोदा का एकमात्र मंदिर हैं। जहां भगवान श्री कृष्ण जैसा पुत्र पाने के लिए महिलाएं माता यशोदा से आर्शीवाद लेने के लिए आती हैं। माता यशोदा के चमत्कारिक मंदिर में पूजन कर कई महिलाएं अपनी सूनी गोद भर चुकी हैं। इस मंदिर में मां यशोदा का चमत्कार 222 वर्षों से निरंतर जारी हैं। जी हां सच्चे मन से मन्नत मांगने पर माता यशोदा श्रीकृष्ण जैसे पुत्र से गोद भरने का आर्शीवाद देती हैं। हम

मप्र-राजस्थान की बार्डर पर विराजे हैं दमदम के बालाजी, यहां एक मुट्ठी अनाज लाने से होता है चमत्कार!

राजपुरा. मप्र-राजस्थान की बार्डर पर एक चबूतरे पर हनुमान जी विराजे हैं। देखते ही देखते दमदम के बालाजी के नाम से आसपास के क्षेत्र में ख्यात हुए हनुमानजी के इस छोटे से मंदिर में बड़ी संख्या में श्रद्धालु अपनी समस्याएं लेकर पहुंचते हैं। यहां की एक और खास बात यह है कि यहां पर किसी भी प्रकार बाधा चाहे ऊपरी बाधाएं हों या अन्य प्रकार की समस्याएं हों, संकट मोचन के दरबार में भक्त परेशानियों से मुक्त होकर जाता हैं। यहां एक मुट्ठी आनाज लाने से चमत्कार होते देखा जा

Top
error: Content is protected !!