चमत्कारिक है श्री अमरवास बालाजी मंदिर, दूर-दूर से आते हैं भक्त!

Miracle story of Shree Amarwas Balaji Mandir At Garoth Mandsaur, Amazing Story of Shree Amarwas Balaji Temple At Garoth Mandsaur In Hindi,

(Amazing Story of Shree Amarwas Balaji Temple At Garoth Mandsaur In Hindi) गरोठ. संकट मोचन हनुमानजी के मंदसौर के गरोठ स्थित चमत्कारिक मंदिर में दूर-दूर से आस्था और विश्वास के साथ आते हैं। यहां श्री अमरवास बालाजी मंदिर एक प्रार्थना मात्र से सारे संकट दूर कर देते हैं। मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले के गरोठ से करीब डेढ़ किमी दूर गांव बरखेड़ा के पास हैं। यहां हर मंगलवार और शनिवार को बालाजी की विशेष आराधना की जाती हैं। पुजारी कुलदीप (विक्की भैया) जोशी बताते हैं कि बालाजी के चोले के लिए श्रद्धालुओं की लम्बी

mahashivratri 2018 : मंदोदरी की इस पूजा से प्रसन्न हुए थे महादेव, लड़कियां वरदान मांगने के लिए पूजती हैं शिवलिंग

worship of lord shiva in unique temple were found ravana mandodari

(amazing baba baleshwar nath mahadev Mandir in meerut uttar pradesh) मेरठ. त्रेता युग का बिल्वेश्वर नाथ महादेव मंदिर आज भी रावण की पत्नी मंदोदरी की पूजा की सच्ची कहानी के लिए देशभर में ख्यात हैं। इस मंदिर में शिवलिंग पत्थर की बजाए धातु से बने हुए है। सावन माह में यहां एक महोत्सव जैसा माहौल रहता है।दरअसल इसी मंदिर में मंदोदरी ने शिवलिंग की पूजा की थी, जिससे भगवान शिव ने प्रसन्न होकर साक्षात प्रकट हुए थे। भगवान शिव से मंदोदरी ने सबसेे शक्तिशाली और सबसे विद्वान व्यक्ति से विवाह का

कवर्धा का भोरमदेव मंदिर: सूर्य की पहली किरण से जगमगाती है गर्भगृह में भगवान शिव की प्रतिमा

bhoramdeo temple chhattisgarh tourism

(mahashivratri 2018 lord shiva and Bhoramdeo Temple At Kawardha Chhattisgarh history & story in hindi) कवर्धा. 10 वीं सदी का भोरमदेव मंदिर देवताओं और मानव आकृतियों की उत्कृष्ट नक्काशी के साथ मूर्तिकला का चमत्कार के कारण सभी की आंखों का तारा है। यहां पूजन करने के लिए हर वर्ष देश ही नहीं बल्कि कई देखों के श्रद्धालु पहुंचते हैं। धार्मिक मान्यता है कि इस मंदिर का नाम भगवान शिव के नाम है। स्थानीय बोली में शिव का दूसरा नाम भोरमदेव भी है। गर्भगृह में मुख्य प्रतिमा एक शिवलिंग की है।

अहमदाबाद था कर्णावती, जामा मस्जिद थी भद्रकाली मंदिर

bhadrakali temple ahmedabad

ये कहानी है एक सुंदर बसाहट वाले गौरवशाली हिंदू शहर की, जिसे आज से करीब 700 साल पहले इतिहास में गुम कर दिया गया, और फिर एक मुस्लिम आक्रांता के नाम पर बसाकर यह झूठ फैलाया गया कि इसे उसी ने बसाया है । इस नगर की अद्भुत शौर्य-गाथा को खत्म कर रक्तरंजित बना देने की ये कहानी 1400 सदी में लिखी गई थी। यह कहानी कर्णावती शहर की है, जिसे आज आप अहमदाबाद के रूप में जानते हैं।सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/गुजरात का

हिंदू : एक कौम जो अपने गौरवमयी इतिहास को भुला बैठी है

atala devi mandir

दुनिया में हिंदू ही एक ऐसी कौम है, जो 'वसुधैव कुटुम्बकम' के छलावे में रहकर दूसरी कौमों को अपनी जमीन पर आने देती रही और वे यहां आकर लूट मचाते रहे। आखिरकार इस कौम की सत्ता पश्चिम में सुदूर ईरान और पूरब में कंबोडिया से सिमटकर अब महज अरुणाचल से गुजरात तक सिकुड़ चुकी है। और यह भी भ्रम है कि वर्तमान भारत में हिंदुत्व की सत्ता है। जरा केरल, मेघालय या मणिपुर चले जाइए, ईसाइयों का प्रभुत्व साफ महसूस करेंगे। जरा आजमगढ़, मुजफ्फरनगर, जौनपुर चले जाइए, आपको छोटे-मोटे कई

प्राचीनतम शनि मंदिर की सच्ची कहानी, अंधे पुजारी की प्रार्थना पर शनिदेव ने दी थी आंखें

shri-shani-mandir-juni-indore

juni indore shani mandir believed to be 500 years old amazing ancient history shani temple in indoreइंदौर. मध्यप्रदेश के इंदौर (अहिल्या नगरी) में भगवान शनिदेव का प्राचीनतम और चमत्कारिक शनिमंदिर जूनि इंदौर में स्थित हैं। यहां भगवान शनिदेव ने मंदिर के अंधे पुजारी की प्रार्थना से प्रसन्न होकर आंखें दी थी, जिसके बाद पुजारी ने आसपास के लोगों की मदद से मंदिर में प्रतिमा स्थापित करवाई। यह मंदिर भगवान शनि देव की इच्छा से यहां बनाया गया हैं। इतिहास में देखें तो यह मंदिर देश ही नहीं दुनियाभर का

मदुराई के मीनाक्षी मंदिर से जुड़ी है पौराणिक कथा

meenakshi-temple-madurai-tamilnadu-photo

meenakshi sundareswarar temple bangalore timings meenakshi sundareswarar mandir meenakshi sundareswarar temple in hindiमदुराई. दक्षिण भारत के श्रेष्ठ मंदिरों में से एक हैं तमिलनाडु के मदुराई में स्थित मीनाक्षी सुन्दरेश्वर मंदिर। इस मंदिर में दर्शन के लिए देश ही नहीं विदेशों से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। यहां विश्व की सर्वश्रेष्ठ शिल्पकला, पेंटिंग एवं रंगों का अद्भुत प्रयोग दिखाई देता हैं। यह मंदिर स्थापत्य और वास्तुकला के हिसाब से आधुनिक विश्व के आश्चर्यों में गिना जाता है। यह मंदिर भगवान सुन्दरेश्वर (शिव) की भार्या जिनकी आंखे मछली की

विश्व का एकमात्र श्रीफल गणेश मंदिर

shreefal-ganesh-temple-in-indore-hindi-story-photo

world's only one shrifal ganesh mandir in indore at juni indore madhya pradesh in indoreइंदौर. एकाक्षी नारियल वाले यानी श्रीफल गणेशजी का दुनिया का एकमात्र मंदिर मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में जूनि इंदौर में हैं। यहां शनिमंदिर मेनरोड पर विराजमान श्रीफल सिद्धि विनायक स्वयंभू रुप में दर्शन देते हैं। पंडित डॉ. महेंद्र व्यास बताते हैं कि चमत्कारी एकाक्षी श्रीफल गणेशजी जूनि इंदौर के व्यास परिवार में करीब 30 वर्ष पहले प्रकट हुए थे, जिनकी स्थापना धर्म मार्तण्ड आचार्य पं. मुरलीधरजी व्यास गुरुदेव के घर 18 सितंबर 1985 बुधवार गणेश चतुर्थी

श्रीफलौदी माताजी के चरण छूने के लिए उमड़े हजारों श्रद्धालु

falodi mata mandir khairabad worship photo

worship of phalodi mata mandir khairabad dham at ramganj mandi rajasthan in vasant panchami in hindiखैराबाद. रामगंजमंडी से 1 किमी दूर अखिल भारतीय मेड़तवाल (वैश्य) समाज के तीर्थस्थल खैराबादधाम में सोमवार को बसंत पंचमी महोत्सव 2018 पारंपरिक पूजा-अर्चना के साथ मनाया गया। समाज की कुलदेवी मां फलौदी के देश में इकलौते दिव्य मंदिर पर सुबह से रात तक हजारों श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ा। कोटा, जयपुर, इंदौर, उज्जैन, भोपाल, ब्यावरा सहित कई शहरों से श्रद्धालु ट्रेनों व निजी वाहनों से जत्थे के रूप में दर्शन करने पहुंचे। शाम 5 बजे तक

ब्रिटेन में कैद है इकलौती 1000 साल पुरानी मां सरस्वती की चमत्कारिक प्रतिमा

Madhya Pradesh's Ayodhya How the british manufactured the myth of Bhojshala

Madhya Pradesh's Ayodhya: How the british manufactured the myth of Bhojshalaधार. ब्रिटेन के ब्रिटिश म्यूजियम में देश-दुनिया की इकलौती 1000 साल पुरानी मां सरस्वती की चमत्कारिक प्रतिमा कैद में है। मध्यप्रदेश के धार जिला मुख्यालय पर भोजशााला में मां सरस्वती के एकमात्र मंदिर जहां माता साक्षात विराजमान थी। भूरे रंग की स्फटिक से निर्मित यह प्रतिमा अत्यंत ही चमत्कारिक, मनमोहक और शांत मुद्रा में दर्शन देती हैं। राजा भोज ने इस प्रतिमा को भोजशाल में जनदर्शन के लिए विराजित किया था। इस जगह राजा भोज की पूजन स्थली कहा जाता

Top
error: Content is protected !!