गाय, बेटी और ग्रंथ तीनों की रायल्टी सबसे ऊंची-संत पं.कमलकिशोर नागरजी

bhagwat katha, bhagwat katha hindi

(bhagwat katha vachak pandit shri kamal kishor ji nagar bhagwat katha hindi me) अरविंद गुप्ता @ बारां/कोटा। जीवन मंथन: बड़ा के बालाजी धाम में विराट श्रीमद् भागवत कथा में गौसेवक संत पूज्य नागरजी के ओजस्वी प्रवचन सुनने उमड़ा जनसैलाब। डेढ लाख वर्गफीट में पांडाल छोटा पड़ा। श्री बड़ां के बालाजी धाम में श्रीमद् भागवत कथा के पांचवे दिन दिव्य गौसेवक संत पूज्य पं.कमलकिशोर नागरजी ने कहा कि सामाजिक बुराइयों से कलियुग की उम्र बढ़ती है। संस्कृति की रक्षा के लिए पहल करो। तीन बातों पर अमल करो, पहला, आज देश में

‘दवा’ से ज्यादा असर दिखाती है ईश्वर की ‘दया’ : संत कमल किशोर नागरजी

pandit kamal kishor nagar ji bhagwat katha in balaji mandir badan baran rajasthan

(bhagwat katha vachak pandit shri kamal kishor ji nagar bhagwat katha hindi me) अरविंद गुप्ता @ बारां/कोटा. धर्मसभा : बरसात के अगले दिन हजारों श्रद्धालुओं ने बड़ा के बालाजी धाम में भक्ति सागर का आनंद उठाया। पूज्य गौसेवक संत पंडित कमल किशोर 'नागरजी' ने कहा कि देह में कोई बीमारी हो तो उसका इलाज डॉक्टर के पास है लेकिन मन की दवा तो केवल ईश्वर के पास है। बारां के पास बड़ा के बालाजी धाम में गुरुवार को श्रीमद भागवत कथा के चतुर्थ सोपान में उन्होंने कहा कि बीमारी होने पर हम होम्योपैथी

ईश्वर के चरणों में रहे, वो भक्त भाग्यशाली हैं -पूज्य नागरजी

bhagwat katha, bhagwat katha hindi

(bhagwat katha vachak pandit shri kamal kishor ji nagar bhagwat katha hindi me) अरविंद गुप्ता @ बारां/कोटा, अमृत वर्शा: बड़ां के बालाजी धाम पर श्रीमद भागवत कथा में बुधवार को रिमझिम बरसात से भक्ति रस में डूबे हजारों श्रद्धालु। खचाखच भरे पांडाल में अपार श्रद्धा के से हुए जनार्दन दर्षन। बड़ां के बालाजी धाम में बुधवार को हजारों श्रद्धालुओं ने आसमान से बरसती बूंदों में भीगते हुए श्रीमद् भागवत कथामृत का भावपूर्ण रसपान किया। दिव्य गौसेवक संत पूज्य पं. कमलकिषोर ‘नागरजी’ ने कहा कि बिछिया असली हो या नकली, वह महिला

अच्छे कार्यों में पति-पत्नी एक-दूजे की हां में हां मिलाओ -पं.नागरजी

bhagwat katha, bhagwat katha hindi

(bhagwat katha vachak pandit shri kamal kishor ji nagar bhagwat katha hindi me)अरविंद गुप्ता@ बारां.  अमृत प्रवाह: बड़ां के बालाजी धाम पर श्रीमद भागवत कथा में दूसरे दिन बरसात व ठिठुरती सर्दी के बावजूद दोगुना हुआ श्रद्धालुओं का सैलाब। दिव्य गौसेवक संत पूज्य पं.कमल किषोर ‘नागरजी’ ने कहा कि विवाह में पति-पत्नी सुंदर जोड़ी बनाते हैं। लेकिन आज दोनों की दिषा उलटी हो जाने से कई घरों मंे अषांति, दुख और क्लेष बन रहा है। यदि जोड़ी एकमत रहे, पति-पत्नी अच्छे कार्यों में एक दूसरे की हां में हां मिलाते

भजन से ज्यादा ईश्वर पर भरोसा बढ़ाओ -पं.कमलकिशोर नागरजी

bhagwat katha, bhagwat katha hindi

(bhagwat katha vachak pandit shri kamal kishor ji nagar bhagwat katha hindi me) अरविंद गुप्ता @ बारां। ज्ञान महायज्ञ: बारां के पास श्री बड़ां के बालाजी मंदिर परिसर में श्रीमद्भागवत ज्ञान यज्ञ महोत्सव के पहले दिन उमड़ा भक्तों का सैलाब। दिव्य गौसेवक संत पूज्य पं.कमलकिशोर ‘नागरजी’ ने कहा कि लौकिक व्यवहार मेें कुछ चीजें हमें ईश्वर प्रदŸा मिलती हैं। घर-परिवार में सुख, सम्पत्ति या संतान की कमी होने पर हम दुखी हो जाते हैं। जरा सोचो, कितना काम उसके भरोसे छोड़कर कर रहे हो। हम भजन तो कर रहे हैं लेकिन

ज्योतिष के बारे में कुंडली में अष्टम भाव की भ्रांतियां, व्यक्ति को ईश्वर से उपहार में मिले यह योग

pandit kapil sharma.jpg

(jyotish se jadu and free jyotish solution in hindi) डॉ. पं. कपिल शर्मा, सम्पूर्णा नंद वाराणसी @ ज्योतिष एक महासागर है इसमे कोई भी सम्पूर्ण न है।आप सबको एक बात बताना चाहूंगा की आजकल ज्योतिष मे बहुत सी भ्रांतियां फैली हुई है जिस से के हम समय समय पर आपको अवगत करवाते रहते है जैसे की काल सर्प दोष, साढ़े साती, पितृ दोष और राहू देव की महादशा के बारे मे भी आज फ़िर उसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए बात करते है आजकल लोगो की अष्टम भाव के बारे मे

सिख समाज के गुरु तेग बहादुर की सच्ची कहानी, औरंगजेब ने इस्लाम न स्वीकारने पर कटवाया था सिर

guru teg bahadur ji

(guru tegh bahadur guru tegh bahadur ji shaheedi diwas aurangzeb get killed sikhs ninth guru for not converting to islam) दिल्ली. सिख समुदाय में 24 नवंबर का दिन बेहद यादगार दिन है। इसी दिन सिख समाज के 9 वें गुरु तेग बहादुर ने अपना बलिदान दिया था। इतिहासकारों की मानें तो मुगल बादशाह औरंगजेब ने गुरु तेग बहादुर का सिर कटना था, औरंगजेब ने गुरु तेग बहादुर के आगे शर्त रखी थी कि उन्हें इस्लाम धर्म स्वीकार करना होगा। मगर गुरु तेग बहादुरजी ने ऐसा करने से मना कर दिया था।

चमत्कारिक संत बाबा रामदेव हैं श्रीकृष्ण के अवतार, इस 1 सच से चौंक गए थे सऊदी अरब से आए पांच पीर!

amazing story of baba ramdev ji runicha dham ramdevra temple

चमत्कारिक संत बाबाओं के बाबा रामदेव बाबा को भगवान द्वारिकाधीश (श्रीकृष्ण) का अवतार कहा जाता हैं। पीरों के पीर रामापीर रामदेव बाबा को भक्त बाबारी कहते हैं। बाबा रामदेव ने छुआछूत के खिलाफ जमकर मुहिम छेड़ी और सिर्फ दलित हिंदुओं का ही पक्ष में काम नहीं किया बल्कि हिंदू और मुसलमानों के बीच एकता की शिक्षा भी फैलाई। उन्हें हिंदू रामदेवजी कहते हैं तो मुस्लिम रामसा पीर कहकर पुकारते हैं।(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});राजस्थान कके प्रसिद्ध लोकदेवताओं में बाबा रामदेवजी भी एक हैं। जैसलमेर के

तुलसीदास जयंती : महान संतों ने सनातन हिन्दू धर्म की नींव अपनी रचनाओं से और मजबूत की

goswami tulsidas images

आप सब को महान रामभक्त संत शिरोमणी गोस्वामी तुलसीदास जी की ५२० वीं जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ , सनातन हिन्दू धर्म अनेक बार भयानक संकटों से ग्रस्त हुआ हैं लेकिन सदैव भगवान् की कृपा से किसी ना किसी रूप में महान  संतो  और भक्तो ने सनातन धर्म को संकटों से निकालकर उसे नवजीवन प्रदान किया, कलियुग आरम्भ होने के बाद जब धर्म का क्षय हुआ, यज्ञों के नाम पर भयानक हिंसाचार आरम्भ हो गया तो भगवान् ने स्वयं बुद्धावतार ग्रहण करके धर्म को नव कलेवर प्रदान किया❗ भगवान् ने आदिगुरु शंकर

दीर्घत्तम अध्यात्मः पल के १००वें हिस्से में भी आपका अंतःकरण शुद्ध है तो साक्षात भगवान चले आते हैं

paramhans sant shri ram babaji maharaj

परमहंस संत श्रीराम बाबाजी महाराजजी। बिलासपुर स्थित निवास पर पधारे।जीवन को समर्पण भाव से भर लें तो वास्तव में चीजें आसान होती चली जाती हैं। यह बात श्री राम बाबाजी की दर्शन के बाद और बेहतर ढंग से समझ में आती जा रही है। बीते दिन महाराजी श्री रामबाबाजी का बिलासपुर आगमन हुआ। यह जीवन की एक ऐसी घटना थी, जिसने कइयों बार मन में आनंद को पसो भर-भरकर खुद के भीतर छिड़का। आध्यात्मिक आनंद, अनुभूतियां और समर्पण भाव के मिश्रण से समस्त सांसारिक वर्जनाओं, गर्जनाओं और गतिरोधों का विरेचन

Top
error: Content is protected !!