गधे को पिलाया गंगाजल…, रामेश्वरम का अभिषेक हो गया!

amazing story of sant eknath maharaj in hindi

स्वप्निल व्यास @ प्रारंभ से प्रारब्ध तक संत एकनाथ का जन्म महाराष्ट्र के पैठण में हुआ था। उनके पिता का नाम श्री सूर्यनारायण तथा माता का नाम रुक्मिणी था। एकनाथ अपूर्व संत थे। वे श्रद्धावान तथा बुद्धिमान थे। उन्होंने  अपने गुरु से ज्ञानेश्वरी, अमृतानुभव, श्रीमद्भागवत आदि ग्रंथों का अध्ययन किया।वे एक महान  संत होने के साथ-साथ कवि भी थे। उनकी रचनाओं में श्रीमद्भागवत एकादश स्कंध की  मराठी-टीका, रुक्मिणी स्वयंवर, भावार्थ रामायण आदि प्रमुख हैंवह स्वभाव से अत्यंत सरल और परोपकारी थे। एक दिन उनके मन में विचार आया कि प्रयाग पहुंचकर त्रिवेणी

भय्यू जी महाराज के अनमोल वचन, वे दुनिया को खुद पर विजय पाने की यह सीख देते थे…

bhaiyyu maharaj

भय्यू महाराज ने मध्यप्रदेश के इंदौर में अपने घर में मंगलवार को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। घटना के तत्काल बाद उन्हें इंदौर के ही बाम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने गहन परिक्षण कर बताया कि वे आधे घंटे पहले ही देह त्याग चुके हैं। देश संस्कृति , ज्ञान और सेवा की त्रिवेणी व्यक्तित्व को खो दिया, उनके विचार अनंत कालल तक समाज को मानवता की सेवा के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करेंगे।-हर एक कठिन मोड़ पर एक सच्चे गुरु की जरुरत होती हैं।-जिस युग में

भय्यू महाराज: लोगों को जिंदगी का पाठ पढ़ाने वाले संत ने कर ली खुदकुशी

इंदौर. भय्यू महाराज ने मध्यप्रदेश के इंदौर में अपने घर में मंगलवार को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। घटना के तत्काल बाद उन्हें इंदौर के ही बाम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने गहन परिक्षण कर बताया कि वे आधे घंटे पहले ही देह त्याग चुके हैं। भय्यू महाराज ने अपनी दाहिनी कनपट्टी पर घर के ही बंद कमरे में खुद को गोली मार ली। जैसे ही गोली की आवाज आई तो सभी कमरे की ओर दौडक़र गए तब पता चला। उन्का अंतिम संस्कार बुधवार को किया जाना बताया जा रहा

महाराणा प्रताप जी के अनमोल विचार

famous dialogue of maharana pratap1."मनुष्य का गौरव और आत्मसम्मान उसकी सबसे बङी कमाई होती है।अतः सदा इनकी रक्षा करनी चाहिए।"~महाराणा प्रताप2."मातृभूमि और अपने माँ मे तुलना करना और अन्तर समझना निर्बल और मुर्खो का काम है।" ~महाराणा प्रताप3."सम्मानहीन मनुष्य एक मृत व्यक्ति के समान होता है।" ~महाराणा प्रताप4."ये संसार कर्मवीरो की ही सुनता है। अतः अपने कर्म के मार्ग पर अडिग और प्रशस्त रहो।" ~महाराणा प्रताप5."समय इतना बलवान होता है, कि एक राजा को भी घास की रोटी खिला सकता है।" ~महाराणा प्रतापसच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज

साल में दो बार दर्शन देते थे मौनी बाबा, मौन रहकर करते थे कई चौंकाने वाले चमत्कार

mouni baba funeral ganga ghat ujjain

story of mouni baba funeral mouni ashram in ganga ghat ujjain city उज्जैन. मौन रहकर साधना करने वाले देश के नामी संत मौनी बाबा अब हमारे बीच नहीं रहे, लेकिन उनकी सीखाई शिक्षाएं और साधना मौनी आश्रम उज्जैन में आज भी बताई जाती हैं, जिनके माध्यम से अाम लोग भी तप के बल पर स्वयं को साधक बना सकता है। संत मौनी बाबा नम आंखों से मौनी बाबा को बिदाई दी। उनका अंतिम संस्कार गंगाघाट पर हुआ। ख्यात संत एवं तपस्वी मौनी बाबा ने महाराष्ट्र के पुणे में अंतिम सांस ली। उनका

फिल्म: जो आपके ही पुरखों के अपमान की गाथा आपकी ही जेब से पैसा वसूलकर आपको दिखाती है!

sanjay leela bhansali movies

आखिर संजय खिलजी भंसाली ने मध्य प्रदेश का किला भेद ही दिया, मध्य प्रदेश में भी दबे—छुपे रास्ते से 'पद्मावत' आ ही गई! मध्य प्रदेश, राजस्थान सहित कुल चार राज्य हैं, जिन्होंने अब तक संजय खिलजी भंसाली की कूटरचित फिल्म 'पद्मावत' को प्रतिबंधित कर रखा है। सुप्रीम कोर्ट के तोप—गोलों ने पहले ही अन्य राज्यों के किलों की दीवारों में छेद कर दिए थे और आज रात मार्केटिंग के चालाक, शातिर रणनीतिकारों ने आखिरकार मध्य प्रदेश के किले में भी सेंध लगा ही दी।सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक

हरिद्वार में होगी हिन्दुओ की 36 बिरादरियों की पंचायत

hindu adhyatmik mela photo

हिन्दुओ के घटते जनसँख्या अनुपात और बढ़ते जातिवाद पर अभियान के लिये एकत्रित होंगे सभी जातियों के प्रमुख लोग और कार्यकर्ता ****************************** आज  अखिल भारतीय संत परिषद के राष्ट्रीय संयोजक यति नरसिंहानन्द सरस्वती जी महाराज ने आचार्य दीपक तेजस्वी जी, हिन्दू स्वाभिमान की राष्ट्रीय अध्यक्ष यति माँ चेतनानंद सरस्वती जी महाराज,कार्यवाहक अध्यक्ष बाबा परमेन्द्र आर्य, महामंत्री अनिल यादव,हिन्दू रक्षा दल के अध्यक्ष पिंकी चौधरी,शहीद मेजर आशाराम त्यागी सेवा संस्थान के अध्यक्ष नीरज त्यागी,महामंत्री अक्षय त्यागी,कोषाध्यक्ष पंकज त्यागी,हिन्दू जागरण मंच के महानगर अध्यक्ष सतेंद्र त्यागी व राष्ट्रीय स्वाभिमान दल के प्रदेश अध्यक्ष विवेक

25 साल पहले टीवी पर सिर्फ रामायण देखते थे, आज हर जेब में है बिगडऩे की सविधा, तय करें क्या देखें, क्या सुनें

shrimad bhagwat katha in ramgarh

shrimad bhagwat katha by pandit sanjay krashn trivedi in ramgarhरामगढ़. रामगढ़ में श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के तीसरे दिन भारी भीड़ कथा सुनने पहुंची। पंडित संजय कृष्ण त्रिवेदी के मुखारबिंद से कथा वाचन हुआ। कथा के तीसरे दिन शनिवार को भगवान कण-कण में बसे हुए हैं, किंतु इस कलयुग में परखने के लिए निगाहों की आवश्यक्ता है। द्वापर युग की बात करते हुए मीरा और शबरी, ध्रव-प्रहलाद आदि का उदाहरण दिया। कथा में पंडित त्रिवेदी ने जीवन की सच्चाई से रुबरु करवाया।सत्यनारायण है सच-सच्चाई सच-सच्चाई की तुलना भगवान सत्यनारायण से

वे सत्ता के नशे में डूबे हैं, हम ‘श्री’ के मद्य में ललायित

shrimad bhagwat katha in ramgarh

shrimad bhagwat katha by pandit sanjay krashn trivedi in ramgarhरामगढ़. रामगढ़ में श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ का भव्य शुभारंभ शोभा यात्रा के साथ 18 जनवरी 2018 गुरुवार को हुआ। पंडित संजय कृष्ण त्रिवेदी के मुखारबिंद से कथा वाचन हुआ। समारोह की शुरुआत कथा स्थल से भव्य शोभायात्रा आयोजित की, जो भगवान श्रीगणेश मंदिर में कलश यात्रा के रुप में पूरे गांव में निकलते हुए फिर कथा स्थल पहुंचे। यहां संगतीमयी कथा में गोकर्ण उपाख्यान हुआ। यह कार्यक्रम दोपहर 12 से 3 बजे तक सात दिन तक सभी के लिए

Top
error: Content is protected !!