भय्यू जी महाराज के अनमोल वचन, वे दुनिया को खुद पर विजय पाने की यह सीख देते थे…

bhaiyyu maharaj

भय्यू महाराज ने मध्यप्रदेश के इंदौर में अपने घर में मंगलवार को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। घटना के तत्काल बाद उन्हें इंदौर के ही बाम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने गहन परिक्षण कर बताया कि वे आधे घंटे पहले ही देह त्याग चुके हैं। देश संस्कृति , ज्ञान और सेवा की त्रिवेणी व्यक्तित्व को खो दिया, उनके विचार अनंत कालल तक समाज को मानवता की सेवा के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करेंगे।-हर एक कठिन मोड़ पर एक सच्चे गुरु की जरुरत होती हैं।-जिस युग में

भय्यू महाराज: लोगों को जिंदगी का पाठ पढ़ाने वाले संत ने कर ली खुदकुशी

इंदौर. भय्यू महाराज ने मध्यप्रदेश के इंदौर में अपने घर में मंगलवार को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। घटना के तत्काल बाद उन्हें इंदौर के ही बाम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने गहन परिक्षण कर बताया कि वे आधे घंटे पहले ही देह त्याग चुके हैं। भय्यू महाराज ने अपनी दाहिनी कनपट्टी पर घर के ही बंद कमरे में खुद को गोली मार ली। जैसे ही गोली की आवाज आई तो सभी कमरे की ओर दौडक़र गए तब पता चला। उन्का अंतिम संस्कार बुधवार को किया जाना बताया जा रहा

भगवान श्रीकृष्ण जैसे पुत्र के लिए इस मंदिर में मां यशोदा देती हैं आशीर्वाद!

amazing story of goddess yashoda mata mandir indore madhya pradesh in hindi

amazing story of goddess yashoda mata mandir indore madhya pradesh in hindiइंदौर. पूरे देश में माता यशोदा का एकमात्र मंदिर हैं। जहां भगवान श्री कृष्ण जैसा पुत्र पाने के लिए महिलाएं माता यशोदा से आर्शीवाद लेने के लिए आती हैं। माता यशोदा के चमत्कारिक मंदिर में पूजन कर कई महिलाएं अपनी सूनी गोद भर चुकी हैं। इस मंदिर में मां यशोदा का चमत्कार 222 वर्षों से निरंतर जारी हैं। जी हां सच्चे मन से मन्नत मांगने पर माता यशोदा श्रीकृष्ण जैसे पुत्र से गोद भरने का आर्शीवाद देती हैं। हम

316 जोड़ों का हुआ विवाह : मुख्यमंत्री ने किया बारात का स्वागत

भोपाल : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मुख्य आतिथ्य में सीहोर जिले की नसरुल्लागंज तहसील मुख्यालय पर सामूहिक विवाह कार्यक्रम सम्पन्न हुआ, जिसमें मुख्यमंत्री कन्या विवाह/निकाह योजनांतर्गत 300 जोड़ों का विवाह तथा 16 जोड़ों का निकाह सम्पन्न हुआ। विवाह समारोह के दौरान 35 पात्र जोड़ों को मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से लाभान्वित भी किया गया। सामूहिक विवाह कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नव-दम्पत्तियों को उनके सुखमय वैवाहिक जीवन के लिये आशीर्वाद प्रदान किया और कहा कि राज्य सरकार द्वारा बेटियों/महिलाओं के कल्याण के लिये अनेक योजनाएँ संचालित की जा

मुख्यमंत्री ने सीहोर जिले के ग्राम बीजला में किया जन-संवाद

भोपाल : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि समाज के गरीबों, ग्रामीणों और किसानों के लिये संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन की जमीनी हकीकत जानने के लिये वे ग्रामीण अंचलों का औचक निरीक्षण करेंगे। मुख्यमंत्री ने सीहोर जिले में नसरूल्लागंज तहसील के ग्राम बीजला में ग्रामीणों से जन-संवाद करते हुए यह जानकारी दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्रामीणों को बताया कि प्रदेश में किसानों, गरीबों, श्रमिकों और अन्य जरूरतमंद लोगों के उत्थान के लिये अभियान चलाकर महत्वपूर्ण योजनाओं का क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जा रहा है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि

अब न पैर जलेंगे और न ही कांटे चुभेंगे

भोपाल : सिवनी जिले में महिला तेन्दूपत्ता संग्राहक पुरंतीबाई सहित एक लाख से अधिक तेन्दूपत्ता संग्राहक हैं। इन सभी संग्राहकों को तेन्दूपत्ता तोड़ते समय, महुआ बीनते समय चिलचिलाती धूप में पैरों के जलने, नुकीले पत्थर और गिट्टी-कांटे चुभने से बड़ी तकलीफ होती थी। यह क्रम वर्षों से, पीढ़ियो से चला आ रहा था। अब इन संग्राहकों के न तो पैर जलेंगे और न ही पैर में कांटे चुभेंगे और न ही भरी दोपहरी में पीने के पानी के लिये इधर-उधर भटकना पड़ेगा। पीने के लिए शीतल जल उनके पास ही होगा। मुख्यमंत्री

साल में दो बार दर्शन देते थे मौनी बाबा, मौन रहकर करते थे कई चौंकाने वाले चमत्कार

mouni baba funeral ganga ghat ujjain

story of mouni baba funeral mouni ashram in ganga ghat ujjain city उज्जैन. मौन रहकर साधना करने वाले देश के नामी संत मौनी बाबा अब हमारे बीच नहीं रहे, लेकिन उनकी सीखाई शिक्षाएं और साधना मौनी आश्रम उज्जैन में आज भी बताई जाती हैं, जिनके माध्यम से अाम लोग भी तप के बल पर स्वयं को साधक बना सकता है। संत मौनी बाबा नम आंखों से मौनी बाबा को बिदाई दी। उनका अंतिम संस्कार गंगाघाट पर हुआ। ख्यात संत एवं तपस्वी मौनी बाबा ने महाराष्ट्र के पुणे में अंतिम सांस ली। उनका

Top
error: Content is protected !!