भगवान बृहस्पति की पूजा सभी प्रकार से फलदायी

lord brihaspati

भगवान बृहस्पति सभी देवताओं के गुरू हैं, गुरु के पास सभी समस्या का समाधान होता है। गुरुवार को कुछ ऐसे उपाय करें जिससे आपको अपने सभी समस्या का समाधान मिले जिससे काम में सफलता जरुर मिलेगी, क्योंकि गुरुवार का दिन देवताओं के गुरु ब्रहस्पति देव का होता है।गुरुवार का दिन गुरु दोष शांति व गुरु की प्रसन्नता के लिए विशेष दिन माना जाता है। ज्योतिष मान्यताओं में भी गुरु सुखद दाम्पत्य जीवन व सौभाग्य में वृद्धि करने वाले ग्रह हैं। वे धन समृद्धि, पुत्र प्राप्ति और शिक्षा के दाता है।

त्रिकाल संध्या क्या है?

trikal sandhya

संसार में प्रत्येक गतिशील वस्तु  अपनी गति को स्थिर रखने के लिये कहीं ना कहीं से नई शक्ति प्राप्त करती है ।गतिशोल वस्तु  वह चाहे सजीव हो या निर्जीव अपनी गतिशीलता को बनाये रखने के लिये आहार अवश्य चाहेगी।शरीर को भोजन पानी चाहिये तो शरीर से अधिक आत्मा का महत्व है।क्योंकि आत्मा अजर अमर है तो सबसे अधिक गतिशील है चैतन्य है, उसे भी आहार की आवश्यकता अधिक है। और आत्मा को स्वाध्याय, सत्संग, आत्म-चिन्तन,उपासना, साधना आदि साधनों द्वाराआहार प्राप्त होता है तब ही वह बलवान ,चैतन्य तथा क्रियाशील रहती

छोटे बच्चों को नजर लगने से पहले करें अध्यात्मिक उपाय

nazar utarne ke totke hindi me

बच्चे अकसर रोते हैं, छोटी उम्र में बच्चों का रोना आम बात है। छोटे बच्चों के रोने का कारण हैं कि वे अपनी बात को सही तरह से कह नहीं पाते, जिससे अपनी बात को कहने के लिए रोने का सहारा लेते हैं। इसीलिए आपके बच्चे अपनी बात कहने के लिए रोने का सहारा लेते हैं। वैसे बच्चे के रोने के और भी कई कारण हो सकते हैं .. लेकिन सवाल ये उठता है कि बच्चे शाम को या रात में क्यों रोते हैं। अचानक बच्चे नींद में उठकर रोना

भगवान शिव के 35 रहस्य, शर्तिया चौंक जाएंगे आप

pandit kapil sharma.jpg

1. आदिनाथ शिवसर्वप्रथम शिव ने ही धरती पर जीवन के प्रचार-प्रसार का प्रयास किया इसलिए उन्हें 'आदिदेव' भी कहा जाता है। 'आदि' का अर्थ प्रारंभ। आदिनाथ होने के कारण उनका एक नाम 'आदिश' भी है।2. शिव के अस्त्र-शस्त्रशिव का धनुष पिनाक, चक्र भवरेंदु और सुदर्शन, अस्त्र पाशुपतास्त्र और शस्त्र त्रिशूल है। उक्त सभी का उन्होंने ही निर्माण किया था।3. शिव का नागशिव के गले में जो नाग लिपटा रहता है उसका नाम वासुकि है। वासुकि के बड़े भाई का नाम शेषनाग है।4. शिव की अर्द्धांगिनीशिव की पहली पत्नी सती ने

सूतिका स्त्री के घर से अग्नि मंगाकर जलाएं होली, फिर देखें चमत्कार

holi priya sharan tripathi astrologer

holi ke totke holi festival 2018 date and time shubh muhurat and puja vidhi for india in hindiरायपुर. होली त्योहार पर यह उपाय आजमाएं तो आपके धन और स्वास्थ्य में चमत्कारिक बदलाव देखने को मिलेंगे। पिछले कई दिनों से आर्थिक और सेहत से परेशान लोग पंडित पी. एस. त्रिपाठी जी से अपनी समस्या बता रहे थे और हल जानना चाहते थे, इसलिए पंडित त्रिपाठी जी ने होली के अवसर पर समस्याओं के समाधान के लिए विशेष धार्मिंक ग्रंथों से जानकारियां जुटाई उपाय खोजें हैं।पंडित त्रिपाठी का कहना है कि इन

दोस्त बनाये कुंडली दिखाकर

kundalini yoga for friendship in hindi

जीवन के सारे महत्वपूर्ण रिश्ते जन्म से मिलते हैं जो हमारे हाथ में नहीं होते है लेकिन जीवन का सबसे महत्वपूर्ण और करीबी रिश्ता जो हम बनाते हैं वह दोस्ती का रिश्ता होता है यह रिश्ता कब और किससे बनेगा यह कोई भी नहीं जानता। प्रेम, विश्वास और आपसी समझदारी के इस रिश्ते को दोस्ती कहते हैं. दोस्ती का रिश्ता जात-पांत, लिंग भेद तथा देशकाल की सीमाओं को नहीं जानता। भारत में तो प्राचीन सभ्यता से ही दोस्ती की कई मिसालें देखने को मिलती हैं। राम जी ने दोस्ती के

अभिमान है बुरा, देता है ग्रह दोष

horoscope today astrology prediction in hindi, aaj ka rashifal

दूसरों में बुराई ढूंढने की अपेक्षा उनकी अच्छाइयों पर ध्यान देना चाहिए, जो लोग दूसरों के बुराई देखते हैं, उनमें अहंकार बढ़ता है। ऐसे लोगों में क्रोध और घृणा बढ़ती है और वे खुद को सबसे अच्छा समझने लगते हैं। हमेशा लोगो की बुराइयां या कमियों को नजरअंदाज करके उसकी अच्छाइयों को देखना चाहिए, क्योंकि उनकी अच्छाइयों को देखकर ही हम अपने आप को और अच्छा बना सकते है।सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/ जन्म से न कोई मनुष्य अच्छा होता है न बुरा, किन्तु उसका

शनि से डर कैसा

interesting facts about shani dev

शनि के बारे में अनेक भ्रान्तियां हैं और हमारे यहाँ तो लोग शनि का नाम सुनते ही डर जाते हैं शनि दशा या शनि की ढैया या साढ़ेसाती तो नाम से ही बदनाम है. शनि को मारक, अशुभ और दुख कारक माना जाता है।पाश्चात्य ज्योतिषी भी उसे दुख देने वाला मानते हैं। लेकिन शनि उतना अशुभ और मारक नही है, जितना उसे माना जाता है। ज्योतिष में शनि दसम और एकादश स्थान का स्वामी ग्रह है. शनि कर्म और लाभ का कारक है. मोक्ष देने वाला एक मात्र ग्रह शनि ही है।सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए

महाशिवरात्रि पर महाकाल के अंश भैरव बाबा पूजन, प्रसन्न होकर बाबा निकाल लाते हैं मौत के मुंह से

amazing Bhairavnath in rajrajeshwari maa mahamaya devi mandir raipur

(amazing Bhairavnath in rajrajeshwari maa mahamaya devi mandir raipur chhattisgarh)रायपुर. छत्तीसगढ़ के रायपुर में महामाया देवी के मंदिर में दो भैरव बाबा जागृत अवस्था में हैं। महाशिवरात्रि पर भैरव बाबा की पूजन भगवान महाकाल के अंश के रुप में की जाती हैं। मां महामाया देवी मंदिर में जागृत अवस्था में विराजे भैरवनाथा भगवान तुरंत परिणाम देते हैं। यहां के चमत्कार दशकों से मश्हूर रहे हैं। मां महामाया देवी मंदिर में प्रवेश के दौरान दोनों ओर काल भैरवनाथ बाबा और बटुक भैरवनाथ बाबा विराजमान हैं।सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज

खुश रहना भी है ग्रहों का संयोग

hindu mantra for love and happiness

इंसान की खुशी का का मापदण्ड अलग अलग होता है .. किसी को महंगी चीजों से खुशी मिलती है, किसी को घूम फिर कर, तो किसी को दूसरों की मदद कर खुशी मिलती है. मतलब ये कि हर एक की खुशी का पैमाना अलग है. एक बात तय है कि खुशी का ताल्लुक दिल से है. यदि हम अपने अंदर झांक कर देखें तो खुशियां अवश्य मिल जाएगी। खुश रहने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है नकारात्मक सोच को दूर करके सकारात्मक विचारों को अपने पास रखें। सकारात्मक विचारों से

Top
error: Content is protected !!