प्राचीनतम शनि मंदिर की सच्ची कहानी, अंधे पुजारी की प्रार्थना पर शनिदेव ने दी थी आंखें

shri-shani-mandir-juni-indore

juni indore shani mandir believed to be 500 years old amazing ancient history shani temple in indoreइंदौर. मध्यप्रदेश के इंदौर (अहिल्या नगरी) में भगवान शनिदेव का प्राचीनतम और चमत्कारिक शनिमंदिर जूनि इंदौर में स्थित हैं। यहां भगवान शनिदेव ने मंदिर के अंधे पुजारी की प्रार्थना से प्रसन्न होकर आंखें दी थी, जिसके बाद पुजारी ने आसपास के लोगों की मदद से मंदिर में प्रतिमा स्थापित करवाई। यह मंदिर भगवान शनि देव की इच्छा से यहां बनाया गया हैं। इतिहास में देखें तो यह मंदिर देश ही नहीं दुनियाभर का

Friday fast: इस विधि से 16 शुक्रवार मां संतोषी का उपवास करें, भरपूर रहेगा धन-धान्य

maa santoshi photo

friday fasting for husband, friday fast for durga, friday fast for durga in hindi, friday fast hindu, 16 friday fasting for goddessहफ्ते के सातों दिन ज्योतिष विद्या के मुताबिक खास महत्व रखते हैं। हिंदू धर्म में धन की देवी मां लक्ष्मी हैं। मां लक्ष्मी संतोषी माता का ही रुप हैं, शुक्रवार को मां संतोषी का विधि विधान से व्रत रखने और कथा पढ़ने से मां लक्ष्मी की कृपा बरसती हैं। सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। अगर कोई भक्त 16 शु्क्रवार माता का व्रत कर लेता हैं, तो मान्यता हैं कि

संकष्टी चतुर्थी 2018 व्रत कथा: भगवान शंकर ने मनोकामना पूर्ति के लिए किया था यह व्रत

sankashti chaturthi

sankashti chaturthi 2018 vrat katha story and kahani sankashti chaturthi fasting procedure method hereरायपुर. संकष्टी चतुर्थी 2018 पर व्रत करके कथा पढऩे वाले व्यक्ति की मन की शक्ति प्रबल होती हैं, ऐसी मान्यता हैं। शास्त्रों में कहा गया है कि यह व्रत मनोकामना पूर्ण करने के लिए भगवान शिव ने भी किया था।इस व्रत वाले दिन श्रद्धालु सूर्योदय से लेकर चंद्रोदय तक व्रत करते हैं।शास्त्रों में कहा गया हैं कि भगवान गणेश की पूजन और उनका यह व्रत करना बेहद लाभकारी होता हैं। इस कथा के मुताबिक भगवान गणेश का संकष्टी

मदुराई के मीनाक्षी मंदिर से जुड़ी है पौराणिक कथा

meenakshi-temple-madurai-tamilnadu-photo

meenakshi sundareswarar temple bangalore timings meenakshi sundareswarar mandir meenakshi sundareswarar temple in hindiमदुराई. दक्षिण भारत के श्रेष्ठ मंदिरों में से एक हैं तमिलनाडु के मदुराई में स्थित मीनाक्षी सुन्दरेश्वर मंदिर। इस मंदिर में दर्शन के लिए देश ही नहीं विदेशों से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। यहां विश्व की सर्वश्रेष्ठ शिल्पकला, पेंटिंग एवं रंगों का अद्भुत प्रयोग दिखाई देता हैं। यह मंदिर स्थापत्य और वास्तुकला के हिसाब से आधुनिक विश्व के आश्चर्यों में गिना जाता है। यह मंदिर भगवान सुन्दरेश्वर (शिव) की भार्या जिनकी आंखे मछली की

विश्व का एकमात्र श्रीफल गणेश मंदिर

shreefal-ganesh-temple-in-indore-hindi-story-photo

world's only one shrifal ganesh mandir in indore at juni indore madhya pradesh in indoreइंदौर. एकाक्षी नारियल वाले यानी श्रीफल गणेशजी का दुनिया का एकमात्र मंदिर मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में जूनि इंदौर में हैं। यहां शनिमंदिर मेनरोड पर विराजमान श्रीफल सिद्धि विनायक स्वयंभू रुप में दर्शन देते हैं। पंडित डॉ. महेंद्र व्यास बताते हैं कि चमत्कारी एकाक्षी श्रीफल गणेशजी जूनि इंदौर के व्यास परिवार में करीब 30 वर्ष पहले प्रकट हुए थे, जिनकी स्थापना धर्म मार्तण्ड आचार्य पं. मुरलीधरजी व्यास गुरुदेव के घर 18 सितंबर 1985 बुधवार गणेश चतुर्थी

पुण्यदायिनी मां नर्मदा भगवान शिव के पसीने से निकली, मानव ही नहीं अनेक जीवों का भी करती हैं उद्धार

narmada jayanti 2018 date

2018 maa narmada jayanti date real story in hindi, narmada udgam sthal amarkantak in hindi माँ नर्मदा जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाएं नमामि देवी नर्मदे हर नर्मदा जयंती, भारत में मनाया जाने वाला एक त्यौहार है। यह अमरकंटक में बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है क्योंकि यह माँ नर्मदा का जन्म स्थान है। इसके अलावा यह पूरे मध्यप्रदेश में बड़े ही हर्ष उल्लास के साथ मनाया जाता है। हिन्दू कैलेंडर के हिसाब से माघ माह की शुक्लपक्ष की सप्तमी को माँ नर्मदा का जन्म हुआ था, इसलिए यह हर साल इस दिन

श्रीफलौदी माताजी के चरण छूने के लिए उमड़े हजारों श्रद्धालु

falodi mata mandir khairabad worship photo

worship of phalodi mata mandir khairabad dham at ramganj mandi rajasthan in vasant panchami in hindiखैराबाद. रामगंजमंडी से 1 किमी दूर अखिल भारतीय मेड़तवाल (वैश्य) समाज के तीर्थस्थल खैराबादधाम में सोमवार को बसंत पंचमी महोत्सव 2018 पारंपरिक पूजा-अर्चना के साथ मनाया गया। समाज की कुलदेवी मां फलौदी के देश में इकलौते दिव्य मंदिर पर सुबह से रात तक हजारों श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ा। कोटा, जयपुर, इंदौर, उज्जैन, भोपाल, ब्यावरा सहित कई शहरों से श्रद्धालु ट्रेनों व निजी वाहनों से जत्थे के रूप में दर्शन करने पहुंचे। शाम 5 बजे तक

ब्रिटेन में कैद है इकलौती 1000 साल पुरानी मां सरस्वती की चमत्कारिक प्रतिमा

Madhya Pradesh's Ayodhya How the british manufactured the myth of Bhojshala

Madhya Pradesh's Ayodhya: How the british manufactured the myth of Bhojshalaधार. ब्रिटेन के ब्रिटिश म्यूजियम में देश-दुनिया की इकलौती 1000 साल पुरानी मां सरस्वती की चमत्कारिक प्रतिमा कैद में है। मध्यप्रदेश के धार जिला मुख्यालय पर भोजशााला में मां सरस्वती के एकमात्र मंदिर जहां माता साक्षात विराजमान थी। भूरे रंग की स्फटिक से निर्मित यह प्रतिमा अत्यंत ही चमत्कारिक, मनमोहक और शांत मुद्रा में दर्शन देती हैं। राजा भोज ने इस प्रतिमा को भोजशाल में जनदर्शन के लिए विराजित किया था। इस जगह राजा भोज की पूजन स्थली कहा जाता

खेराबादधाम सिद्धपीठ मां फलोदी के दरबार में विदेशों से आते हैं भक्त, मंदिर प्रांगण में रहती हैं देवी मां

falaudi mata mandir khairabad

falaudi mata mandir khairabad near ramganj mandi in hindiखेराबाद. भारत में मातृशक्ति का अनूठा सिद्धपीठ राजस्थान के रामगंजमंडी के समीप खेराबादधाम में मां फलोदी का दरबार है। मेड़तवाल समाज की कुलदेवी मां फलोदी का आशीर्वाद लेने के लिए भक्त विदेशों से भी खेराबादधाम आते हैं। किवदंती है कि देवी अलौकिक रुप में मंदिर प्रांगण में विचरण करती हैं। अखिल भारतीय मेडतवाल (वैश्य) समाज की आराध्य देवी हैं श्रीफलौदी माताजी महाराज। देश में कुलदेवी का इकलौता मंदिर होने से श्रद्धालु इसे तीर्थस्थल खैराबादधाम के नाम से पुकारते हैं।

मकर संक्रांति के पीछे है यह सच्ची पौराणिक कथा, जानिए मकर संक्रांति सूर्य उत्तरायण का महत्व

makar sankranti festival

मकर संक्रांति हिन्दुओ के प्रमुख त्यौहारों में से एक है इस दिन ग्रहमंडल के राजा सूर्यदेव अपने पुत्र शनि देव की राशि मकर में प्रवेश करते है इस वर्ष यह दिन 15 जनवरी 2018 को आ रहा है इसी दिन सूर्यदेव दक्षिणयन से उत्तरायण हो जाते है और यहीं से फिर मांगलिक कार्यक्रमों की शुरूवात हो जाती है जो मल मास होने के कारण या धनु राशि के सूर्य के कारण एक माह से बन्द थे। यह पर्व संपूर्ण भारतवर्ष में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है पौष मास में जब सूर्यदेव मकर राशि

Top
error: Content is protected !!