चमत्कारिक है श्री अमरवास बालाजी मंदिर, दूर-दूर से आते हैं भक्त!

Miracle story of Shree Amarwas Balaji Mandir At Garoth Mandsaur, Amazing Story of Shree Amarwas Balaji Temple At Garoth Mandsaur In Hindi,

(Amazing Story of Shree Amarwas Balaji Temple At Garoth Mandsaur In Hindi) गरोठ. संकट मोचन हनुमानजी के मंदसौर के गरोठ स्थित चमत्कारिक मंदिर में दूर-दूर से आस्था और विश्वास के साथ आते हैं। यहां श्री अमरवास बालाजी मंदिर एक प्रार्थना मात्र से सारे संकट दूर कर देते हैं। मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले के गरोठ से करीब डेढ़ किमी दूर गांव बरखेड़ा के पास हैं। यहां हर मंगलवार और शनिवार को बालाजी की विशेष आराधना की जाती हैं। पुजारी कुलदीप (विक्की भैया) जोशी बताते हैं कि बालाजी के चोले के लिए श्रद्धालुओं की लम्बी

सूर्य ग्रहण की पौराणिक कथा, जब इस 1 बात पर क्रोधित हो गए थे भगवान विष्णु

surya grahan pauranik katha in hindi

surya grahan 2018 dates and time, surya grahan , surya grahan 2018 dates and time in india in hindi,गुरवार 15 फरवरी 2018 को आधी रात के बाद से सूर्य ग्रहण शुरु हो जाएगा। यह 2018 का पहला सूर्य ग्रहण होगा। अभी 31 जनवरी को ही चंद्र ग्रहण लगा था और भारत में इसे देखा गया था। अब सूर्य ग्रहण ने दस्तक दे दी है। लेकिन सूर्य ग्रहण अर्जेटीना, चिली, पैराग्वे और उरुग्वे में ही देखा जा सकेगा। वहीं भारत के लोग NASA की वेबसाइट पर सूर्य ग्रहण को लाइव देख

राजिम कुंभ में सतपाल जी महाराज ने कहा, ऐसे घोषित होगा भारत हिंदू राष्ट्र और बनेगा विश्व गुरु

satpal ji maharaj minister

राजिम. राजनीति के साथ धर्म में भी बड़ी भागीदारी निभाने वाले सतपाल जी महाराज (उत्तराखंड सरकार में कैबिनेट मंत्री ) ने राजिम कल्प कुंभ 2018 में धर्म कथाएं डॉट कॉम से सौजन्य भेंट कर चर्चा की। उन्होंने कहा कि भगवान राजीव लोचन की नगरी राजिम में महापर्व कुंभ मनाना, बड़ी प्रसन्नता की बात है। कुंभ में सद्भावना सत्संग समारोह हो रहा है, यह इस बात की प्रेरणा देता है, कि हमें अपना हृदय परिवर्तन करना है। अगर हम युग परिवर्तन चाहते हैं, तो उसके लिए हमें आसमान को नहीं बदलना, मिट्टी

कवर्धा का भोरमदेव मंदिर: सूर्य की पहली किरण से जगमगाती है गर्भगृह में भगवान शिव की प्रतिमा

bhoramdeo temple chhattisgarh tourism

(mahashivratri 2018 lord shiva and Bhoramdeo Temple At Kawardha Chhattisgarh history & story in hindi) कवर्धा. 10 वीं सदी का भोरमदेव मंदिर देवताओं और मानव आकृतियों की उत्कृष्ट नक्काशी के साथ मूर्तिकला का चमत्कार के कारण सभी की आंखों का तारा है। यहां पूजन करने के लिए हर वर्ष देश ही नहीं बल्कि कई देखों के श्रद्धालु पहुंचते हैं। धार्मिक मान्यता है कि इस मंदिर का नाम भगवान शिव के नाम है। स्थानीय बोली में शिव का दूसरा नाम भोरमदेव भी है। गर्भगृह में मुख्य प्रतिमा एक शिवलिंग की है।

राजिम कुंभ में आए ये नागा संत सिर्फ कारनामा ही नहीं, मरीजों को निकाल लाते हैं मौत के मुंह से

story of naga aghori sadhus power in hindi

naga sadhu in rajim kumbha 2018 story in hindiराजिम कल्प कुंभ. हिंदू धर्म की संत धारा में नागा साधुओं का राष्ट्र और धर्म रक्षा में बड़ा योगदान है। अपने तप, हठ योग, ध्यान-साधना के बलबूते सनातन परंपरा की ताकत हर बार दिखाई है। नागा महंत सत्यगिरी नागा बाबा (जिला मुंगेली, लोरमी तहसील, ग्राम सारधा) ने अपने प्राइवेट पार्ट से चमत्कार दिखाया तो देखने वाले हैरान रह गए। जब राजिम कल्प कुंभ में नागा साधु अपने बेहद नाजुक हिस्से से चमत्कार दिखा रहे थे, तब वहां देखने वाले संत की तपस्या के

तांत्रिक से भूत प्रेत भगाने वाले हो जाएं सावधान, ऐसे होती है भगवान के नाम पर ठगी

good tantrik in raipur

real story of girl tortured by tantrik baba in tantra sadhana for vashikaran in chhattisgarh storyअगर आप भी तांत्रिक का सहारा ले रहे हैं तो सावधान हो जाएं। झाड़-फूंक और भगवान की पूजा के नाम पर कुछ ठगोरे तांत्रिक देश में तंत्र विद्या को बदनाम करने और बिगाड़ने का काम कर रहे हैं।भूत प्रेत के नाम पर एक युवती का इलाज कर रहे तांत्रिक की हैवानियत देखकर आप चौंक जाएंगें। भूत का साया खत्म करने के लिए परिवार वालों ने तांत्रिक का सहारा लिया, तो तांत्रिक ने युवती के साथ

फिल्म: जो आपके ही पुरखों के अपमान की गाथा आपकी ही जेब से पैसा वसूलकर आपको दिखाती है!

sanjay leela bhansali movies

आखिर संजय खिलजी भंसाली ने मध्य प्रदेश का किला भेद ही दिया, मध्य प्रदेश में भी दबे—छुपे रास्ते से 'पद्मावत' आ ही गई! मध्य प्रदेश, राजस्थान सहित कुल चार राज्य हैं, जिन्होंने अब तक संजय खिलजी भंसाली की कूटरचित फिल्म 'पद्मावत' को प्रतिबंधित कर रखा है। सुप्रीम कोर्ट के तोप—गोलों ने पहले ही अन्य राज्यों के किलों की दीवारों में छेद कर दिए थे और आज रात मार्केटिंग के चालाक, शातिर रणनीतिकारों ने आखिरकार मध्य प्रदेश के किले में भी सेंध लगा ही दी।सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक

अहमदाबाद था कर्णावती, जामा मस्जिद थी भद्रकाली मंदिर

bhadrakali temple ahmedabad

ये कहानी है एक सुंदर बसाहट वाले गौरवशाली हिंदू शहर की, जिसे आज से करीब 700 साल पहले इतिहास में गुम कर दिया गया, और फिर एक मुस्लिम आक्रांता के नाम पर बसाकर यह झूठ फैलाया गया कि इसे उसी ने बसाया है । इस नगर की अद्भुत शौर्य-गाथा को खत्म कर रक्तरंजित बना देने की ये कहानी 1400 सदी में लिखी गई थी। यह कहानी कर्णावती शहर की है, जिसे आज आप अहमदाबाद के रूप में जानते हैं।सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/गुजरात का

हिंदू : एक कौम जो अपने गौरवमयी इतिहास को भुला बैठी है

atala devi mandir

दुनिया में हिंदू ही एक ऐसी कौम है, जो 'वसुधैव कुटुम्बकम' के छलावे में रहकर दूसरी कौमों को अपनी जमीन पर आने देती रही और वे यहां आकर लूट मचाते रहे। आखिरकार इस कौम की सत्ता पश्चिम में सुदूर ईरान और पूरब में कंबोडिया से सिमटकर अब महज अरुणाचल से गुजरात तक सिकुड़ चुकी है। और यह भी भ्रम है कि वर्तमान भारत में हिंदुत्व की सत्ता है। जरा केरल, मेघालय या मणिपुर चले जाइए, ईसाइयों का प्रभुत्व साफ महसूस करेंगे। जरा आजमगढ़, मुजफ्फरनगर, जौनपुर चले जाइए, आपको छोटे-मोटे कई

प्राचीनतम शनि मंदिर की सच्ची कहानी, अंधे पुजारी की प्रार्थना पर शनिदेव ने दी थी आंखें

shri-shani-mandir-juni-indore

juni indore shani mandir believed to be 500 years old amazing ancient history shani temple in indoreइंदौर. मध्यप्रदेश के इंदौर (अहिल्या नगरी) में भगवान शनिदेव का प्राचीनतम और चमत्कारिक शनिमंदिर जूनि इंदौर में स्थित हैं। यहां भगवान शनिदेव ने मंदिर के अंधे पुजारी की प्रार्थना से प्रसन्न होकर आंखें दी थी, जिसके बाद पुजारी ने आसपास के लोगों की मदद से मंदिर में प्रतिमा स्थापित करवाई। यह मंदिर भगवान शनि देव की इच्छा से यहां बनाया गया हैं। इतिहास में देखें तो यह मंदिर देश ही नहीं दुनियाभर का

Top
error: Content is protected !!