डॉ. आंबेडकर की जन्मस्थली पर है भव्य स्मारक, यहां पीएम मोदी, राष्ट्रपति कोविंद समेत कई दिग्गज नवा चुके हैं शीश

ambedkar smarak mhow

डॉ. आंबेडकर नगर (महू, जिला इंदौर)। 14 अप्रैल 1891 को महू (जो अब डॉ. आंबेडकर नगर) में सूबेदार रामजी शकपाल एवं भीमाबाई की चौदहवीं संतान के रुप में डॉ. भीमराव आंबेडकर का जन्म हुआ। व्यक्तित्व में स्मरण शक्ति की प्रखरता, बुद्धिमत्ता, ईमानदारी, सच्चाई, नियमितता, दृढ़ता, प्रचंड संग्रामी स्वभाव का मणिकाचंद मेल था।
दलितों के मसीहा डॉ. बाबा साहेब भीम राव आंबेडकर की उनकी जन्मस्थली पर देशदुनिया से आने वाले लोग अर्चना करते हैं। यहां बाबा साहेब की भव्य स्मारक बनाई गई है, जिसमें पीएम मोदी, राष्ट्रपति कोविंद समेत कई दिग्गज शीश नवा चुके हैं। हर साल 14 अप्रैल को बाबा साहेब की जन्मस्थली पर आस्था का आंबेडकर महाकुंभ लगता है।

आधारशीला सुंदरलाल पटवा ने रखी, लोकार्पण लालकृष्ण आडवाणी ने किया

डॉ. बाबा साहेब आंबेडकर मेमोरियल सोसायटी के सचिव मोहन राव वाकोड़े ने बताया कि स्मारक पर स्थापत्य कला की बेजोड़ कृति है। यह सांची के स्तूप की तर्ज पर बनाया गया हैं। करीब 9 करोड़ से अधिक रुपए की लागत से बने इस स्मारक के सामने बाबा साहेब की 14 फीट ऊंची मूर्ति स्थापित की गई हैं। स्मारक की आधारशीला सुंदरलाल पटवा ने रखी थी और 2008 में अधूरे स्मारक का लोकार्पण लालकृष्ण आडवाणी ने किया था।

 

पीएम मोदी ने किया था कांस्य चित्रों का अनावरण

डॉ. बाबा साहेब आंबेडकर मेमोरियल सोसायटी के सचिव मोहन राव वाकोड़े ने बताया कि बाबा साहेब की 125 वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां 15 मीयुल्र्स यानी कांस्य चित्रों का अनावरण किया था। अभी 31 मीयुल्र्स लगना बाकी हैं।

whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!