सूर्य देव छूते हैं मां के पैर, श्री महामाया देवी के दर्शन मात्र से पूरी होती है मनोकामना!

amazing story of Maa mahamaya devi mandir raipur, mahamaya temple

रायपुर(छग). तांत्रिक पद्धति से बने मां महामाया मंदिर में मां की अद्भुत महिमा है। यहां चैत्र नवरात्रि की सूर्य की पहली किरण मां के पैर छूती है।

सम्लेश्वरी देवी का आर्शीवाद लेने के बाद पूरी सृष्टी को सूर्य की ऊर्जा प्राप्त होती है। खास बात यह है कि मंदिर बनावट को देखकर वैज्ञानिक भी हैरान हैं, कि सूर्य की किरणें मां के चरणों तक कैसे पहुंचती है, यह बात दशकों से चमत्कार के तौर पर देखी जाती है। इस चमत्कार की सच्ची घटना देखने के लिए चैत्र नवरात्रि के दिन सूर्योदय से पहले मंदिर में दूर-दूर से लोग आते हैं।



मंदिर पुजारी पंडित मनोज शुक्ला बताते हैं कि मंदिर की कलाकारी से सरकारी अधिकारी अंदाजा लगाते हैं कि मंदिर 8 वीं शाताब्दी का करीब1300 साल पुराना है।

राजाओं की कुलदेवी है मां
यह मंदिर है है वंश के राजा मोरध्वज खास तांत्रिक विधि से बनवाया था। है है वंश के राजाओं की माता कुलदेवी है। इस तरह राजवंश ने पूरी छत्तीस मंदिरों का निर्माण करवाया था, यह मंदिर राजाओं के किलों के पास स्थित है।

सच्ची धार्मिक कहानियां पढऩे के लिए फेसबुक पेज लाइक करें-  https://www.facebook.com/DharmKathayen/

पंडित शुक्ला बताते हैं कि मां के चरणों में जो भी भक्त सच्ची आस्था से मनोकामना मांगता है, वह पूरी जरूर पूरी होती है। यह देश का पहला ऐसा मंदिर है जहां दो भगवान भैरव स्वरूप दो मंदिर हैं।

मां ने राजा से कहा था मुझे मंदिर ले चलो
स्वयं महामाया देवी मां ने राजा से कहा था मुझे मंदिर ले चलो। राजा मोरध्वज अपनी सेना के साथ खारुन नदी के तट पर महादेव घाट पर रात्रि विश्राम के लिए ठहरे। यहां सुबह रानी नदी में नहाने गईं तो उन्हें कई सांप दिखे। तत्काल राजा को सूचित किया गया। राजा ने आकर देखा तो मां की प्रतिमा दिखी। राजा से मा ने कहा कि मैं यहीं रहना चाहती हूं। मेरे रहने का इंतजाम किया जाए।



मां ने राजा से यह भी कह दिया था कि तुम्हारे उठाने के बाद मुझे कहीं रख दिया तो मैं वहीं स्थापित हो जाउंगी। राजा ने पुरानी बस्ती में निर्माणाधीन मंदिर में के गर्भगृह में मां की मूर्ति को स्थापित कर दिया। मूर्ति रखने का स्थान बन रहा था, इसलिए मां की प्रतिमा को राजा ने पास में ही रख दिया, इसके बाद कोई मां की प्रतिमा को आज तक तय स्थान पर नहीं रख पाया। इससे एक खास चमत्कार भी देखा जाता है। मां के मंदिर में प्रतिमा के दोनों ओर खिड़कियां हैं, इन खिड़कियों में एक ही खिड़की से मां को देखा जा सकता है।

 

whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

31 thoughts on “सूर्य देव छूते हैं मां के पैर, श्री महामाया देवी के दर्शन मात्र से पूरी होती है मनोकामना!

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!