यहां माथा टेकने से सफल होता है वैवाहिक जीवन, पढि़ए सच्ची कथा

amazing bandi chod baba ki-dargah-dhar-mp

धार. मध्यप्रदेश के धार में एक ऐसा धार्मिक स्थान है, जहां वैवाहिक जीवन की सफलता के लिए दूर-दूर से लोग माथा टेकने आते हैं। यहां सिर्फ एक बार सिर झुकाने से जीवनभर पति-पत्नी खुशहाल जीवन जीते हैं।
हम बात कर रहे हैं हिंदू-मुस्लिम एकता के प्रतिक माने जाने वाले बंदी छोड़ बाबा की दरगाह की। यहां देशभर से सभी धर्मों के लोग परिवार की खुशहाली के लिए आर्शीवाद लेने के लिए आते है। कई बार विदेशी सैलानियों को यहां के चमत्कार का पता लगा तो वे भी बड़ी आस्था के साथ बाबा की दरगाह पर माथा टेकने पहुंचे।

यह है बाबा के दरबार की कथा
बंदी छोड़ बाबा के बारे में कहा जाता है कि सन् 1127 में धार के किले में करीब 900 दूल्हा-दुल्हनों को कैद से मुक्त करवाते समय बंदी छोड़ बाबा का सिर कटकर वहीं गिर गया था।



इसके बाद भी बाबा लड़ते-लड़ते करीब आधा किलोमीटर दूर तक पहुंचे। यहां बाबा ने प्राण त्याग दिए थे। तब से किले में बाबा के सिर और नौगांव क्षेत्र में धर की दरगाह है। तब से वैवाहिक जोड़ों के लिए बाबा के दर्शन चमत्कारिक आर्शीवाद साबित हुआ। यह सच्ची कथा आज भी धार में किसी भी बुजूर्ग व्यक्ति के मुह से हम सुन सकते है। यह दरगाह हिंदू-मुस्लिम एकता के मामले में बड़ी मिसाल कायम की है।

देशभर से आते है श्रद्धालु
बाबा की दरगाह पर देश के कई स्थानों से सभी धर्मों के श्रद्धालु आते हैं। खासतौर से नवविवाहिता जोड़े यहां सफल वैवाहिक जीवन की मन्नत मांगने आते है। क्यों कि बाबा ने यहां अपनी जान पर खेलकर दूल्हा-दुल्हनों को कैद से आजाद करवाया था। बदनावर के श्रद्धालु सुरेंद्र सिंह राठौर अपने पूरे परिवार के साथ दरगाह पर मात्था टेकने आए थे। उन्होंने बताया कि वे समय-समय पर परिवार के साथ यहां आते है। यहां हर मुराद पूरी होती है। इसलिए यहां जो भी आता है वह जिंदगीभर खुश रहता है। आप भी एक बार आकर मत्था टेक सकते हैं।

whatsapp पर रोज एक सच्ची धार्मिक कहानी पढऩे के लिए हमारे नंबर 8224954801 को dharma kathayen के नाम से सेव करें। इसके बाद हमारे नंबर पर start लिखकर whatsapp कर दें…

Leave a Reply

Top
error: Content is protected !!